×

क्राइम

छात्रों ने रेत पर उकेरा IIT BHU में हुए गैंगरेप का दर्द

Varanasi : BHU (NSUI) इकाई की पहल पर रविवार को बीएचयू दृश्य कला के छात्रों ने अस्सी घाट के पार रेत पर सैंड आर्ट के माध्यम से आईआईटी बीएचयू में छात्रा से गैंगरेप के आरोपियों की गिरफ्तारी में देरी और भाजपा सरकार द्वारा उनको संरक्षण देने के विषय पर अपना रोष व्यक्त किया. छात्रों ने… Continue reading छात्रों ने रेत पर उकेरा IIT BHU में हुए गैंगरेप का दर्द

IIT BHU IMAGE

Varanasi : BHU (NSUI) इकाई की पहल पर रविवार को बीएचयू दृश्य कला के छात्रों ने अस्सी घाट के पार रेत पर सैंड आर्ट के माध्यम से आईआईटी बीएचयू में छात्रा से गैंगरेप के आरोपियों की गिरफ्तारी में देरी और भाजपा सरकार द्वारा उनको संरक्षण देने के विषय पर अपना रोष व्यक्त किया. छात्रों ने सैंड आर्ट के माध्यम से प्रश्न किया कि 60 दिन क्यों?

जब आरोपियों की पहचान घटना के 7 दिन बाद ही हो गई थी तो गिरफ्तारी में 60 दिन का समय क्यों लगा ? भाजपा सरकार ने आरोपियों को बचाने की पूरी कोशिश की और दो महीने तक उन्हें संरक्षण देते रहे, भाजपा के बड़े नेताओं से उनके संबंध होने के कारण पुलिस ने कारवाई में देरी की.

छात्रों ने आरोप लगाया कि प्रदेश की मुख्य विपक्षी पार्टी सपा भी इस मुद्दे पर जमीन पर उतरने के जगह एसी कमरों में बैठी हुई है। इस दौरान एनएसयूआई बीएचयू के उपाध्यक्ष और दृश्य कला संकाय के छात्र शंभू ने कहा कि उत्तर प्रदेश की पुलिस आखिर किन बड़े भाजपा आरएसएस के नेताओं और मंत्रियों के दबाव में अपराधी को पकड़ने के बजाए संरक्षण देकर मध्य प्रदेश में भाजपा के लिए प्रचार करवा रहे थे, पुलिस की करवाई जो अन्य घटना के वक्त जिस प्रकार से एनकाउंटर और बुल्डोजर के साथ चलती हैं, वो पुलिस प्रेस ब्रीफ करने से भी क्यों कतरा रही हैं?

इस दौरान छात्र छात्राओं ने मोदी योगी चुपी तोड़े, स्मृति ईरानी माफी मांगो के नारे लगाते रहें.इस दौरान छात्र छात्राएं उपस्थित थे.

1 नवंबर को हुई थी IIT BHU घटना

पिछले महीने 1 नवंबर की आधी रात करीब 1 बजकर 30 मिनट पर तीनों युवकों  कुणाल पांडेय, अभिषेक चौहान, सक्षम पटेल ने IIT-BHU में अपने दोस्त के साथ जा रही छात्रा के साथ गैंगरेप किया था. साथ ही गन पॉइंट पर छात्रा के कपड़े उतरवाकर वीडियो भी बनाए थे. इस घटना के बाद कैंपस में जमकर बवाल हुआ था. इस घटना के विरोध में छात्र सड़कों पर उतर आए थे. कैंपस में छात्राओं की सुरक्षा को लेकर कई तरह के सवाल भी खड़े हुए थे. 

और भी खबरों के लिए यहां क्लिक करें.