×

क्राइम

UAPA के तहत आतंकी घोषित हुआ गैंगस्टर गोल्डी बराड़.जानिए आखिर है कौन ?

DELHI: गैरकानूनी गतिविधियों के रोकथाम और आतंकवाद पर नकेल कसने के लिए प्रावधान UAPA में निहित है.UAPA गैर-जमानती हैं.इस अधिनियम की धारा 18 के तहत, आतंकवादी कृत्य की साजिश रचने के लिए कम से कम पांच साल की कैद की सजा हो सकती है, जिसे आजीवन कारावास तक बढ़ाया जा सकता है. मशहूर पंजाबी गायक… Continue reading UAPA के तहत आतंकी घोषित हुआ गैंगस्टर गोल्डी बराड़.जानिए आखिर है कौन ?

GOLDI BRAR IMG
GOLDI BRAR GANGSTER UAPA

DELHI: गैरकानूनी गतिविधियों के रोकथाम और आतंकवाद पर नकेल कसने के लिए प्रावधान UAPA में निहित है.UAPA गैर-जमानती हैं.इस अधिनियम की धारा 18 के तहत, आतंकवादी कृत्य की साजिश रचने के लिए कम से कम पांच साल की कैद की सजा हो सकती है, जिसे आजीवन कारावास तक बढ़ाया जा सकता है.

मशहूर पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला की हत्या के मुख्य आरोपी व गैंगस्टर गोल्डी बराड़ को केंद्र सरकार के गृह मंत्रालय ने साल 2024 के पहले दिन यानी 1 जनवरी को UAPA के तहत आतंकवादी घोषित कर दिया.

UAPA के जरिए आतंकवाद की परिभाषा क्या है?

कोई व्यक्ति या संगठन जिससे भारत की एकता, अखंडता, सुरक्षा, या संप्रभुता को खतरा हो. या कोई भी गैर कानूनी गतिविधि जिसके माध्यम से राष्ट्र को खतरे की संभावना हो ऐसे कृत्य को साफ शब्दों में आतंकवाद कहा गया है.

जानिए UAPA कैसे काम करता है?

2019 में पेश किए गए संशोधनों के आधार पर इस सख्त कानून में ऐसे प्रावधान है कि जिनके जरिए केंद्र न केवल व्यक्तियों को बल्कि संगठनों को भी आतंक गतिविधियों में शामिल होने की वजह से आतंकवादी घोषित कर सकता है.

कौन है गैंगस्टर गोल्डी बराड़?

गोल्डी बराड़ उर्फ सतविंदरजीत सिंह पंजाब के श्री मुक्तसर साहिब का रहने वाला है.सूत्र के मुताबिक गोल्डी बराड़ को गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई का बेहद खास है. बराड़ पर प्रसिद्ध पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड का भी आरोप है.

सतविंदर सिंह का जन्म 1994 में पंजाब में हुआ था. वह बीए ग्रेजुएट है. उसके पिता पुलिस इंस्पेक्टर थे. वह फिलहाल कनाडा में पनाह लिए हुए है.

गैंगस्टर गोल्डी पर हत्या, जबरन वसूली जैसे अपराध में मामले दर्ज हैं. बता दे कि फरीदपुर की एक अदालत ने युवा कांग्रेस नेता गुरलाल सिंह पहलवान की हत्या के मामले में गोल्डी के खिलाफ एक गैर-जमानती गिरफ्तारी वारंट भी जारी किया गया था.

गौरतलब हो कि गोल्डी बराड़ के चचेरे भाई गुरलाल बराड़ की पिछले साल चंडीगढ़ में हत्या कर दी गई थी, जो बिश्नोई गैंग का बेहद खास माना जाता है. गोल्डी ने अपने चचेरे भाई के हत्या का बदला लेने के लिए गैंगवार में कदम रखा और देश के कुख्यात गैंगस्टरों की लिस्ट में शीर्ष पर है. वह गुरलाल सिंह पहलवान की हत्या के बाद गोल्डी बराड़ स्टूडेंट वीजा पर कनाडा भाग गया था.

बता दे कि पिछले साल के सिंतबर महीने में पुलिस ने गोल्डी बराड़ के ठिकानों पर छापेमारी की थी. इसके अलावा राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) के भी रडार पर बराड़ लंबे समय से है, कई बार NIA गैंगस्टर गोल्डी से जुड़े लोगों के ठिकानों पर छापेमारी कर चुकी है.

और खबरों के लिए यहां क्लिक करें