×

क्रिप्टोकोर्रेंसी

पिछले 1 साल में 46 हजार से ज्यादा लोग क्रिप्टोकरेंसी स्कैम का शिकार, गवां दी 7,770 करोड़ रुपये

क्रिप्टोकरेंसी को लेकर अभी तक कई तरह से स्कैम सामने आ चुके हैं.

Crypto Scam: क्रिप्टोकरेंसी को लेकर अभी तक कई तरह से स्कैम सामने आ चुके हैं. फेडरल ट्रेड कमिशन (FTC) के अनुसार, साल 2021 से लेकर अब तक 46 हजार से ज्यादा लोग क्रिप्टोकरेंसी स्कैम का शिकार चुके हैं. इन घोटालों में करीब 7,770 करोड़ रुपये गंवा दी हैं. फेडरेल ट्रेड कमिशन ने एक रिपोर्ट जारी किया. इस रिपोर्ट में बताया है कि ज्यादातर लोग विज्ञापन, पोस्ट या सोशल मीडिया पर कोई मैसेज देखकर इस तरह के घोटाले का शिकार हो गए हैं.

खबर में खास

  • बोगस निवेश का झांसा देकर लूटे गए
  • टॉप सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म रहे

बोगस निवेश का झांसा देकर लूटे गए

दरअसल, पिछले साल नवंबर में बिटकॉइन ने जो रिकॉर्ड तोड़े हैं. उसी की वजह से लोग क्रिप्टोकरेंसी की ओर आकर्षित हुए. बिटकॉइन पिछले साल नवंबर में $69,000 (लगभग 53.6 लाख रुपये) पर पहुंच गया था. रिपोर्ट के अनुसार, कुल नुकसान में से $575 मिलियन (लगभग 4,467 करोड़ रुपये) बोगस निवेश अवसरों का झांसा देकर लूटे गए.

टॉप सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म रहे

रिपोर्ट में कहा, सोशल मीडिया पर हुए हर 10 डॉलर के फ्रॉड में से 4 डॉलर का फ्रॉड क्रिप्टोकरेंसी में किया गया. इसमें Instagram, Facebook, WhatsApp और Telegram टॉप सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म रहे.

बिटकॉइन, टीथर और ईथर टॉप क्रिप्टोकरेंसी रहीं, जिसमें लोगों ने स्कैमर्स को पेमेंट दी. मई में डॉजकॉइन के फाउंडर बिली मार्कस ने 95 प्रतिशत क्रिप्टोकरेंसी प्रोजेक्ट्स को स्कैम और कबाड़ कहा था. मार्कस ने ट्वीट कर कहा था कि क्रिप्टोकरेंसी की छवि लोगों की नजर में खराब रही है, यहां तक कि पारंपरिक निवेशक भी इसके लिए अपमानजनक शब्दों का इस्तेमाल करते हैं.