×

विदेश

DRDO प्रमुख का ऐलान,’ब्रह्मोस सुपरसॉनिक मिसाइलों’ का निर्यात शुरू करेगा भारत

भारत के रक्षा क्षेत्र में पूरी तरह आत्मनिर्भर बनने की कोशिश में जल्द ही एक और उपलब्धि जुड़ने वाली है. रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) इस साल मार्च तक ब्रह्मोस सुपरसॉनिक क्रूज मिसाइल का निर्यात शुरू करेगा.इसकी पुष्टि DRDO प्रमुख समीर वी. कामत ने खुद की है. उन्होंने न्यूज एजेंसी एएनआई से बातचीत में… Continue reading DRDO प्रमुख का ऐलान,’ब्रह्मोस सुपरसॉनिक मिसाइलों’ का निर्यात शुरू करेगा भारत

ब्रह्मोस सुपरसॉनिक IMAGE
ब्रह्मोस सुपरसॉनिक IMAGE

भारत के रक्षा क्षेत्र में पूरी तरह आत्मनिर्भर बनने की कोशिश में जल्द ही एक और उपलब्धि जुड़ने वाली है. रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) इस साल मार्च तक ब्रह्मोस सुपरसॉनिक क्रूज मिसाइल का निर्यात शुरू करेगा.इसकी पुष्टि DRDO प्रमुख समीर वी. कामत ने खुद की है. उन्होंने न्यूज एजेंसी एएनआई से बातचीत में कहा कि डीआरडीओ अगले 10 दिन में ही इन मिसाइलों के ग्राउंड सिस्टम्स का निर्यात शुरू करेगा.

विदेशों से भी आ सकते हैं ब्रह्मोस सुपरसॉनिक मिसाइलों के ऑर्डर

ब्रह्मोस सुपरसॉनिक मिसाइलों के अलावा डीआरडीओ ने जिन 307 ATAGS बंदूकों को डेवलप किया है और जिनका निर्माण भारत फोर्ज और टाटा एडवांस्ड सिस्टम जैसी प्राइवेट सेक्टर की कंपनियां कर रही हैं, उनके लिए भी इस वित्तीय वर्ष के अंत तक विदेश से ऑर्डर आ सकते हैं.

कुछ और देशों ने भी दिखाई ब्रह्मोस के लिए रुचि

DRDO चेयरमैन ने कहा कि ब्रह्मोस मिसाइल के लिए फिलीपींस के अलावा अन्य देशों ने भी रुचि दिखाई है. उन्होंने कहा कि निर्यात के लिए तैयार ATAGS के सारे ट्रायल पूरे हो चुके हैं. अनुमान है कि 31 मार्च से पहले ही इसके लिए ऑर्डर दिया जाएगा.

किन देशों के साथ हुआ था मिसाइलों को लेकर सौदा

मीर कामत ने कहा, करीब 4.94 लाख करोड़ रुपये के DRDO के उत्पादों के लिए रुचि दिखाई गई है. पहले के मुकाबले हमें कहीं ज्यादा ऑर्डर मिले हैं और तेजी से प्रोग्रेस हो रही है. जनवरी 2022 में भारत और फिलीपींस के बीच ब्रह्मोस मिसाइलों को लेकर 375 मिलियन डॉलर की डील हुई थी. इसी के तहत फिलीपींस को मिसाइलों की डिलीवरी होनी है. 290 किमी रेंज वाली इन मिसाइलों का निर्यात अपनी तरह का पहला समझौता था. इस डील के तहत 2 सालों में एंटी-शिप वर्जन की 3 मिसाइल बैटरियों का भी एक्सपोर्ट होना है. इसी के तहत माना जा रहा है कि इन ब्रह्मोस मिसाइलों को फिलीपींस को एक्सपोर्ट किया जाएगा.

और भी खबरों के लिए यहां क्लिक करें.