×

देश

कांग्रेस अध्यक्ष चुनाव: शशि थरूर का झलका दर्द, PCC में खड़गे का स्वागत होता है, पर मेरा नहीं…

थरूर ने कहा, ‘‘कुछ नेताओं ने ऐसे काम किए हैं, जिस पर मैंने कहा कि समान अवसर नहीं है. कई प्रदेश कांग्रेस कमेटी (PCC) में हमने देखा कि PCC अध्यक्ष, विधायक दल के नेता और कई बड़े नेता खरगे साहब का स्वागत करते हैं, उनके साथ बैठते हैं, PCC से निर्देश जाते हैं कि आ जाओ, खरगे साहब आ रहे हैं.

नई दिल्ली. कांग्रेस अध्यक्ष चुनाव (Congress President Election) की तैयारी अंतिम समय में हैं. 17 अक्टूबर को अध्यक्ष पद के लिए चुनाव होगा, जबकि नतीजे 19 अक्टूबर को घोषित किए जायेंगे. चुनाव के लिए कांग्रेस अध्यक्ष पद के उम्मीदवार मल्लिकार्जुन खड़गे और शशि थरूर (Shashi Tharoor) अलग अलग राज्यों में जाकर प्रदेश कांग्रेस कमेटियों के सदस्यों से समर्थन की मांग रहे हैं. चुनाव की तैयारियों के बीच अध्यक्ष पद के उम्मीद शशि थरूर का दर्द छलका. थरूर ने कहा कि गुरुवार को कहा कि कई प्रदेश इकाइयों (PCC) में उनके प्रतिद्वंद्वी मल्लिकार्जुन खरगे का स्वागत किया जाता है और बड़े-बड़े नेता उनसे मिलते हैं, लेकिन उनके साथ ऐसा व्यवहार नहीं होता.

इस खबर में ये है खास-

  • कांग्रेस की व्यवस्था में कमियां हैं- थरूर
  • थरूर बोले- जानबूझकर किया जा रहा
  • खड़गे साहब का PCC स्वागत करती है
  • शशि थरूर के कार्यक्रम में नहीं होते PCC अध्यक्ष

कांग्रेस की व्यवस्था में कमियां हैं- थरूर

शशि थरूर (Shashi Tharoor) ने कहा कि हालांकि, वह कोई शिकायत नहीं कर रहे हैं, लेकिन व्यवस्था में कमियां हैं क्योंकि 22 साल से पार्टी में चुनाव नहीं हुआ है. थरूर ने यह भी कहा कि केंद्रीय चुनाव प्राधिकरण के प्रमुख मधुसूदन मिस्त्री ने स्वतंत्र एवं निष्पक्ष चुनाव कराने का प्रयास किया है. दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के डेलीगेट के साथ बैठक की और अपने लिए वोट मांगा. इसमें पूर्व सांसद संदीप दीक्षित, दिल्ली महिला कांग्रेस की अध्यक्ष अमृता धवन और कुछ अन्य डेलीगेट शामिल हुए.

थरूर बोले- जानबूझकर किया जा रहा

कांग्रेस अध्यक्ष पद के दोनों उम्मीदवारों के लिए समान अवसर नहीं होने संबंधी अपने पहले की एक टिप्पणी के बारे में बात करते हुए कहा, ‘‘मैं मिस्त्री साहब के खिलाफ कुछ नहीं बोलना चाहता था. सिस्टम में कुछ कमियां हैं क्योंकि 22 साल से चुनाव नहीं हुए हैं.’’ उनका कहना था, ‘‘हमें 30 सितंबर को पहली सूची (डेलीगेट की) दी गई और फिर एक हफ्ते पहले एक सूची दी गई. पहली सूची में फोन नंबर नहीं थे. अगर ऐसा है तो फिर कैसे संपर्क करेंगे. बाद में फोन नंबर मिले. दोनों सूची में कुछ अंतर थे. थरूर ने कहा कि मेरी यह शिकायत नहीं है कि ये जानबूझकर कर रहे हैं.

खड़गे साहब का PCC स्वागत करती है

शशि थरूर ने कहा, “समस्या यह है कि हमारी पार्टी में कई साल से चुनाव नहीं हुए हैं. इसलिए कुछ गलतियां हुई हैं.’’ उन्होंने कहा, ‘‘मुझे पता है कि मिस्त्री जी स्वतंत्र एवं निष्पक्ष चुनाव कराने के लिए बैठे हैं. मुझे उनसे कोई शिकायत नहीं है.’’ थरूर ने कहा, ‘‘कुछ नेताओं ने ऐसे काम किए हैं, जिस पर मैंने कहा कि समान अवसर नहीं है. कई प्रदेश कांग्रेस कमेटी (PCC) में हमने देखा कि PCC अध्यक्ष, विधायक दल के नेता और कई बड़े नेता खरगे साहब का स्वागत करते हैं, उनके साथ बैठते हैं, PCC से निर्देश जाते हैं कि आ जाओ, खरगे साहब आ रहे हैं.

शशि थरूर के कार्यक्रम में नहीं होते PCC अध्यक्ष

यह सिर्फ एक ही उम्मीदवार के लिए हुआ. मेरे साथ कभी नहीं हुआ. इस किस्म की कई चीजें कई PCC में हुईं.’’ उनके अनुसार, वह कई पीसीसी गए, लेकिन पीसीसी अध्यक्ष उपलब्ध नहीं होते. थरूर ने कहा, ‘‘मैं कोई शिकायत नहीं कर रहा हूं. मैं यह नहीं कह रहा हूं कि मुझे ज्यादा फर्क पड़ेगा. उन्होंने यह भी कहा कि गांधी परिवार और पार्टी के शीर्ष स्तर से पहले ही तटस्थता की बात कर दी गई है और इस चुनाव में सबको अपनी मर्जी से वोट करना चाहिए क्योंकि यह गुप्त मतदान है.