×

देश

गुजरात ग्लोबल समिट में बोली वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, 2027-28 तक भारत बनेगा 5 ट्रीलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था

गांधीनगर – वाइब्रेंट गुजरात ग्लोबल समिट 2024 को संबोधित करते हुए भारत सरकार की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा है कि वित्त वर्ष 2027-28 तक भारत 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी बनकर उभरेगा. उन्होने कहा कि इसके साथ ही देश दुनिया की तीसरी बड़ी अर्थव्यवस्था में शामिल हो जाएगा. वित्त मंत्री ने पूरे भरोसे… Continue reading गुजरात ग्लोबल समिट में बोली वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, 2027-28 तक भारत बनेगा 5 ट्रीलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था

ग्लोबल समिट nirmala sitaram

गांधीनगर – वाइब्रेंट गुजरात ग्लोबल समिट 2024 को संबोधित करते हुए भारत सरकार की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा है कि वित्त वर्ष 2027-28 तक भारत 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी बनकर उभरेगा.

उन्होने कहा कि इसके साथ ही देश दुनिया की तीसरी बड़ी अर्थव्यवस्था में शामिल हो जाएगा. वित्त मंत्री ने पूरे भरोसे के साथ कहा कि 2047 तक भारत 30 ट्रिलियन डॉलर जीडीपी के साथ विकसित अर्थव्यवस्था बनकर तैयार होगा. भारत अभी पांचवीं बड़ी अर्थव्यवस्था की सूची में शामिल है, जिसकी जीडीपी 3.4 ट्रिलियन डॉलर की है. अमेरिका चीन, जापान और जर्मनी इस सूची में शीर्ष चार में शामिल है.

ग्लोबल समिट में वित्त मंत्री बोली, सनराइज इंडस्ट्रीज को प्राथमिकता दी जाएगी.

वित्त मंत्री ने गुजरात के गांधीनगर में आयोजित वाइब्रेंट गुजरात ग्लोबल समिट 2024 के संबोधन में अपनी बात रखते हुए कहा 2027-28 तक उम्मीद है कि 2047 में भारत का स्वतंत्रता का शाताब्दी वर्ष मनाएगा. इस अमृतकाल में सनराइज इंडस्ट्रीज उभरते हुए सेक्टरों को प्राथमिकता दी जाएगी.

हम दुनिया की तीसरी बड़ी इकोनॉमी होंगे और हमारा जीडीपी 5 ट्रिलियन डॉलर के पार चला जाएगा. 2047 तक हमारा अनुमान है कि हम 30 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी तक पहुंचने में कामयाब होंगे.कोविड महामारी के बाद की कई चुनौतियों का हम सबने मिलकर का सामना किया है और अर्थव्यवस्था में रिकवरी बेहद मजबूत देखी जा रही है. 2047 तक भारत के विकसित अर्थव्यवस्था बनने की राह में गुजरात भारत के इंजन के तौर पर कार्य करेगा.

निर्मला सीतारमण, वित्त मंत्री

FDI पॉलिसी के तहत पिछले 9 सालों में 595 बिलियन डॉलर का विदेशी निवेश

वित्त मंत्री जानकारी देते हुए बताया कि मोदी सरकार के 9 सालों के कार्यकाल में FDI पॉलिसी के तहत भारत में 595 बिलियन डॉलर का विदेशी निवेश किया गया.भारतीय अर्थव्यवस्था ने साल 2022-23 में हुए 7.2 प्रतिशत के मुकाबले इस साल 7.3 प्रतिशत का उछाल दर्ज किया है.

उन्होने आगे कहा कि गुजरात देश की कुल आबादी 5 प्रतिशत लोग रहते है लेकिन देश की योगदान GDP 8.5 फीसदी का है. साल 2011 से लेकर 2014 तक 12 फीसदी के विकास दर से राज्य की अर्थव्यवस्था में उछाल के साथ आगे बढ़ रहा है जबकि राष्ट्रीय औसत 10.4 फीसदी का है. भारत इन तमाम उद्योगों का सेमीकंडक्टर उत्पादक बनकर तैयार होने जा रहा है. इलेक्ट्रिक व्हीकल बनाने और बेचने के व्यापार में व्यापार को बड़े पैमाने पर यहां अपनाया जा रहा है. इसका श्रेय सरकार के एफडीआई पॉलिसी को जाता है.

और भी खबरों के लिए यहां क्लिक करें.