×

राजनीति

UCC Provisions: 4 शादियां करने वाले मुसलमानों के लिए उत्तराखंड UCC में क्या प्रावधान, जानकर आप भी होंगे हैरान

UCC Provisions: समान नागरिक संहिता लागू होने के बाद अब अलग-अलग धर्म के अलग कानून के बजाय व्यक्तिगत मामलों पर एक समान कानून लागू होगा.

UCC Provisions: know what are the provisions in Uttarakhand UCC for Muslims 4 marriages.
UCC Provisions: know what are the provisions in Uttarakhand UCC for Muslims 4 marriages.

UCC Provisions: उत्तराखंड में (UCC) समान नागरिक संहिता लागू होने के बाद हिंदू, मुसलमान, ईसाई समुदाय के लिए शादी, तलाक, संपत्ति, विरासत जैसी तमाम चीजें बदल गई हैं. अब अलग-अलग धर्म के अलग कानून के बजाय व्यक्तिगत मामलों पर एक समान कानून लागू होगा.

UCC Provisions: मुस्लिमों के लिए क्या बदला

आपको बता दें कि मुस्लिम धर्म में निकाह, पारिवारिक संपत्ति का बंटवारा, तलाक जैसे मामले मुस्लिम पर्सनल लॉ, एप्लीकेशन एक्ट 1937 के तहत संसोधित की जाती थीं. लेकिन अब यूसीसी में बहुत सी चीजें को बदल दिया गया हैं. आपको बता दें कि अब मुस्लिम समुदाय में लड़कियों की शादी की उम्र 18 और लड़कों की 21 कर दी गई है. इससे पहले (Shariat Law 1937) लड़कियों की 13 उम्र में शादी की इजाजत देता है. मुख्य बात कि मुस्लिमों में बहु-विवाह को भी गैर-कानूनी घोषित कर दिया गया है. वहीं दूसरे धर्मों में यह पहले से प्रतिबंधित है.

Kisan Andolan 2024: पकड़नी है ट्रेन या जाना है एयरपोर्ट, नोट कर लें लेटेस्ट एडवाइजरी; फिर न कहना बताया नहीं था

UCC Provisions: बहु-विवाह

आपको बता दें कि इस्लामी कानून में 4 शादियां जायज बताई गई हैं. मुस्लिम बहु-विवाह के मामले में सबसे महत्वपूर्ण बात संपत्ति का बंटवारा है. लेकिन उत्तराखंड के यूसीसी कानून में इस बारे में कुछ स्पष्ट नहीं किया गया है.

Elon Musk 10 लाख लोगों को भेजेंगे मंगल ग्रह पर, बताया कितने सालों बाद बसाएंगे चांद पर बस्ती

UCC Provisions: सर्वाधिक बहु-विवाह

इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट फॉर पॉपुलेशन साइंसेज की एक रिपोर्ट के आधार पर आपको बताते है कि भारत में मुस्लिम समुदाय में सर्वाधिक बहु-विवाह के मामले में IIPS ने 2022 में एक स्टडी रिपोर्ट आई थी, जो कि राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण के आंकड़ों पर आधारित थी. इस रिपोर्ट के अनुसार भारत में होने वाले कुल बहु-विवाह या पॉलीगेमी के मामले में सबसे आगे मुसलमान हैं. जिनकी संख्या 1.9% है. इसके बाद अन्य धार्मिक समुदाय आते हैं, जिनकी संख्या 1.6% और तीसरे नंबर पर हिंदू जिनकी संख्या 1.3% है.

हिंदी समाचार, ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें India Ahead पर। सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट India Ahead न्यूज़ पर पढ़ें बॉलीवुड, खेल जगत से जुड़ी ख़बरें।