×

Kerala

बाप ने किया सबसे घिनौना पाप, जानिये किस कोर्ट ने सुनाई 133 वर्ष की सजा

Kerala Crime: 13 वर्ष की बेटी के साथ उसने कई बार दुष्कर्म किया. इसका खुलासा तब हुआ जब उसने 11 वर्षीय बेटी के साथ ही शारीरिक संबंध बनाने की कोशिश की.

Kerala Crime: kerala pocso court sentences man 133 years imprisonment in Assault case
Kerala Crime: kerala pocso court sentences man 133 years imprisonment in Assault case

कोच्चि, India Ahead Digital Desk: दक्षिण के राज्य केरल में एक पिता को अपनी ही बेटी के साथ दुष्कर्म करने का दोषी करार देते हुए कोर्ट 133 वर्ष की कड़ी सजा सुनाई है. जांच के दौरान पुलिस ने पाया कि आरोपी की पत्नी जब घर पर नहीं होती थी तो वह बड़ी बेटी के साथ दुष्कर्म करता था. 13 वर्ष की बेटी के साथ उसने कई बार दुष्कर्म किया. इसका खुलासा तब हुआ जब उसने 11 वर्षीय बेटी के साथ ही शारीरिक संबंध बनाने की कोशिश की.

सश्रम भुगतनी होगी सजा

पुलिस जांच, गवाहों और सबूतों के आधार पर मलप्पुरम की फास्ट-ट्रैक पॉक्सो कोर्ट ने 42 वर्षीय पिता को 133 वर्ष जेल की सजा सुनाई. कोर्ट ने सजा सुनाने के दौरान कहा कि बच्ची के साथ दुष्कर्म के दोषी को सश्रम कारावास होगी. जांच में पाया गया कि इस शख्स ने अपनी 13 और 11 वर्ष की बच्चियों के साथ दुष्कर्म किया.

8.8 लाख लगाया जुर्माना

मलप्पुरम फास्ट-ट्रैक पॉक्सो कोर्ट के विशेष न्यायाधीश अशरफ एएम ने 133 वर्ष की सजा सुनाने के साथ ही दोषी पर 8.8 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया है. कोर्ट ने यह आदेश भी दिया है कि 8.8 की राशि पीड़ितों को दी जाए. इसका साथ ही जिला कानूनी सेवा प्राधिकरण को सरकारी नियमों के अनुसार सरवाइवर्स को मुआवजा देने का निर्देश दिया.

यह भी पढ़ें: Maharashtra Politics: भतीजे ने कैप्चर की NCP तो शरद पवार गुट को मिला नया नाम, क्या RS चुनाव में होगा इस्तेमाल

नवंबर, 2021-22 के दौरान किया दुष्कर्म

दुष्कर्म का यह घिनौना मामला नवंबर 2021 और मार्च 2022 के बीच का है. आरोप है कि इस शख्स ने अपनी बड़ी बेटी के साथ कई बार दुष्कर्म किया. वह दुष्कर्म तब करता जब उसकी पत्नी घर पर नहीं होती थी. कोर्ट दोषी को पॉक्सो अधिनियम की धारा 6 (1) (गंभीर भेदक यौन हमला) के साथ आईपीसी की धारा 376 (3) और 5 (एल) के तहत 40-40-40 साल के कारावास की सजा सुनाई गई. इसके साथ ही किशोर न्याय अधिनियम की धारा 75 के तहत उसे अलग से तीन साल का कारावास मिला.

यह भी पढ़ें: Uttarakhand UCC: उत्तराखंड ने रचा इतिहास, UCC बिल हुआ पास, गर्वनर के हस्ताक्षर के बाद बन जाएगा कानून