×

MAHARASTRA

Maharashtra Politics: भतीजे ने कैप्चर की NCP तो शरद पवार गुट को मिला नया नाम, क्या RS चुनाव में होगा इस्तेमाल

Maharashtra Politics: चुनाव आयोग ने मंगलवार को शरद पवार गुट को झटका देते हुए अजित पवार गुट को ही असली राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी बताया था.

Maharashtra Politics: Sharad Pawar group gets new Political Party name after nephew captures NCP
Maharashtra Politics: Sharad Pawar group gets new Political Party name after nephew captures NCP

नई दिल्ली, India Ahead Digital Desk : देश की राजनीति के दिग्गज नेता और महाराष्ट्र की राजनीति में चाणक्य कहे जाने वाले शरद पवार के राजनीतिक दल का नाम राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी – शरदचंद्र पवार होगा. भारतीय निर्वाचन आयोग (election Commission of India) ने एक दिन पहले मंगलवार को अजित पवार को एनसीपी का नाम और चुनाव चिह्न दे दिया था. इसके बाद बुधवार को शरद पवार को उनकी पार्टी का नया नाम मिला है, जिसका नाम राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी – शरदचंद्र पवार होगा.

दिए थे तीन विकल्प

गौरतलब है कि पूर्व केंद्रीय मंत्री और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री का पद संभाल चुके शरद पवार ने भारतीय निर्वाचन आयोग से तीन नामों की मांग की थी. वहीं, EC ने काफी सोच विचार करने के इसमें राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी शरद चंद्र पवार के नाम पर मुहर लगा दी. शरद पवार ने राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी शरद पवार, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी शरद चंद्र पवार और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी शरदराव पवार नाम के तीन विकल्प दिए थे.

अजित पवार गुट ही असली NCP

गौरतलब है कि चुनाव आयोग ने मंगलवार को शरद पवार गुट को झटका देते हुए अजित पवार गुट को ही असली राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी बताया. अपने फैसले में चुनाव आयोग ने तर्कों के साथ कहा था कि सभी सबूतों के मद्देनजर पाया जाता है कि अजित पवार गुट ही असली एनसीपी गुट है.

यह भी पढ़ें: LS Elections 2024: अनुप्रिया पटेल ने कहा- जयंत का NDA में स्वागत, अखिलेश बोले- पढ़े-लिखे हैं, ऐसा नहींं करेंगे

अजित पवार को मिला चुनाव चिह्न भी

चुनाव आयोग के इस फैसले के साथ ही अजित पवार गुट को एनसीपी का चुनाव चिह्न इस्तेमाल करने का अधिकार भी दे दिया. आयोग के अधिकारियों के मुताबिक, सभी दस्तावेज और सबूतों के आधार पर यह स्पष्ट है कि अजित गुट का पार्टी और पार्टी के अलावा संगठन पर वर्चस्व है. चुनाव आयोग ने यह तर्क भी दिया कि अजित पवार के गुट के लोग भी ज्यादा हैं. इस वजह से राजीनितिक दल का नाम और निशान दोनों अजित गुट को दिए जाते हैं.

यह भी पढ़ें: पीएम नरेन्द्र मोदी के 90 मिनट के भाषण में कौन रहा निशाने पर, किसे कहा- कमांडो