×

MAHARASTRA

महाराष्ट्र की सियासत का दूसरा अध्याय: उद्धव के बाद शरद पवार की बारी?

महाराष्ट्र में शिवसेना के विधायकों की अयोग्यता के मामले में फैसला हो गया है, जिसके बाद एक नया चैप्टर खुलने का संकेत है. कल महाराष्ट्र विधानसभा स्पीकर राहुल नार्वेकर ने घोषणा की कि शिवसेना (शिंदे गुट) ही असली शिवसेना है और ठाकरे गुट के 16 विधायकों को अयोग्य ठहराया गया है. इसके पश्चात, राष्ट्रवादी कांग्रेस… Continue reading महाराष्ट्र की सियासत का दूसरा अध्याय: उद्धव के बाद शरद पवार की बारी?

महाराष्ट्र में शिवसेना के विधायकों की अयोग्यता के मामले में फैसला हो गया है, जिसके बाद एक नया चैप्टर खुलने का संकेत है. कल महाराष्ट्र विधानसभा स्पीकर राहुल नार्वेकर ने घोषणा की कि शिवसेना (शिंदे गुट) ही असली शिवसेना है और ठाकरे गुट के 16 विधायकों को अयोग्य ठहराया गया है. इसके पश्चात, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) विधायकों की अयोग्यता के मामले पर भी नया चैप्टर शुरू होने की संकेत मिल रहे है. एनसीपी के विधायकों की अयोग्यता की याचिकाएं राहुल नार्वेकर को सौंपी गई हैं और उनके खिलाफ फैसला 31 जनवरी तक हो सकता है.

महाराष्ट्र की सियासत में नए उथल-पुथल के संकेत

शिवसेना के मामले में विधायकों की अयोग्यता का फैसला उनके 16 सदस्यों को यथास्थिति असली शिवसेना मानने के रूप में हुआ है. इससे महाराष्ट्र की सियासत में नए उथल-पुथल का संकेत है. एनसीपी के मामले में स्पीकर ने याचिकाएं सुनी हैं और 31 जनवरी तक फैसला करने का समय दिया है. इसके बाद नए चैप्टर के तौर पर एनसीपी के विधायकों की अयोग्यता के मामले पर स्पीकर का फैसला सुनाया जाएगा.

चुनाव आयोग पहुंचा मामला

चुनाव आयोग भी इस मामले में शामिल है और अपने आदेश को सुरक्षित रखा है. यह सियासी गड़बड़ी की नई चरण की शुरुआत कर सकती है जिससे महाराष्ट्र की राजनीति में गतिशीलता बढ़ सकती है.

ये भी पढ़ें- लोकसभा चुनाव से पहले ED की एंट्री पर बवाल