×

राजनीति

अभी मंदा है कांग्रेस का चुनावी चंदा…

दिल्ली: लोकसभा चुनाव 2024 के लिए चुनावी चंदा जुटाने में लगी कांग्रेस का धंधा मंदा चल रहा है. दो सप्ताह के इस अभियान में महज 11 करोड़ रुपये ही हमा हुए हैं. शीर्ष नेतृत्व नाराज है और चंदा जुटाने वाले असहज. अब निर्देश मिला है कि राज्यों में जाकर अभियान चलाया जाए. सही मायने में… Continue reading अभी मंदा है कांग्रेस का चुनावी चंदा…

दिल्ली: लोकसभा चुनाव 2024 के लिए चुनावी चंदा जुटाने में लगी कांग्रेस का धंधा मंदा चल रहा है. दो सप्ताह के इस अभियान में महज 11 करोड़ रुपये ही हमा हुए हैं. शीर्ष नेतृत्व नाराज है और चंदा जुटाने वाले असहज. अब निर्देश मिला है कि राज्यों में जाकर अभियान चलाया जाए. सही मायने में कहें तो नेताओं को निर्देश दिया गया है कि घर से निकलकर चंदा मांगें.

18 दिसंबर को शुरू हुई क्राउड फंडिंग
कांग्रेस ने 18 दिसंबर को क्राउंड फंडिंग की शुरुआत की थी. कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने 1.38 लाख रुपये चंदा देकर शुभांरभ किया था. उन्होंने अपील की थी कि कांग्रेस पहली बार देश के लिए चंदा मांग रही है. अभियान में पार्टी के सभी राज्यों के प्रभारियों व वरिष्ठ नेताओं को लगाया गया है. अब तक 11 करोड़ रुपये ही जमा हो पाए हैं. पिछले दिनों दिल्ली में हुई बैठक में यह मुद्दा उठा. सूत्रों की मानें तो राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने इस पर नाराजगी जताई. AICC कोषाध्यक्ष अजय माकन को इसकी कमान संभालने को कहा गया. अब माकन देश भर में राज्यों का दौरा करेंगे.

न्याय यात्रा के लिए भी धन की जरूरत
14 जनवरी से राहुल गांधी की न्याय यात्रा को लेकर भी मंथन हुआ है. न्याय यात्रा के लिए धन की जरूरत पडेगी. उसके लिए अलग से चंदा जुटाने के लिए कहा गया है. अब कांग्रेसी चंदा कैसे जुटाएंगे यह पहेली बना हुआ है.

राहुल ने पूछा, न्याय यात्रा से जुडेंगे
कार्यकर्ताओं संग मीटिंग के दौरान राहुल गांधी ने पूछा, न्याय यात्रा में शामिल होंगे. सभी नेताओं ने इस पर एक सुर से हां बोली. सूत्रों की मानें तो राहुल ने खिंचाई करते हुए कहा कि, पहले व्यवस्था तो कर लीजिए. इशारा साफ था कि चंदा अभियान तेज कीजिए.

255 सीटों पर जोर
दरअसल बुधवार को कांग्रेस की दिल्ली में जो बैठक हुई उसमें सीटों को लेकर चर्चा हुई थी. देश में कितनी सीटो पर चुनाव लडा जाए और कितनी सीटों पर जीत का फोकस रखा जाए इसको लेकर करीब 255 सीटें संगठन ने चुनी हैं. इसमें यूपी में 25 सीटें, बिहार में भी इतनी ही सीटें और दिल्ली में पांच सीटों का फार्मूला है. इस मीटिंग में सभी राज्यों के प्रभारी व संगठन महासचिव सहित प्रदेश अध्यक्ष पहुंचे थे.