×

राजनीति

माया के सांसद राहुल का हाथ करेंगे मजबूत!, भारत जोड़ो न्याय यात्रा में शामिल हुए दानिश अली

बहुजन समाज पार्टी से निलंबित सांसद कुंवर दानिश अली (Kunwar Danish Ali) भारत जोड़ो न्याय यात्रा में शामिल होने रविवार को मणिपुर पहुंचे. अमरोह सांसद की तस्वीरें सामने आई हैं जिसमे वे राहुल गांधी के साथ नजर आ रहे हैं. दानिश अली ने कहा कि वह इस यात्रा का हिस्सा बनना अपना फर्ज समझते हैं… Continue reading माया के सांसद राहुल का हाथ करेंगे मजबूत!, भारत जोड़ो न्याय यात्रा में शामिल हुए दानिश अली

बहुजन समाज पार्टी से निलंबित सांसद कुंवर दानिश अली (Kunwar Danish Ali) भारत जोड़ो न्याय यात्रा में शामिल होने रविवार को मणिपुर पहुंचे. अमरोह सांसद की तस्वीरें सामने आई हैं जिसमे वे राहुल गांधी के साथ नजर आ रहे हैं. दानिश अली ने कहा कि वह इस यात्रा का हिस्सा बनना अपना फर्ज समझते हैं क्योंकि राहुल गांधी की यह पहल कमजोर लोगों को न्याय दिलाने औऱ भारतवासियों को जोड़ने के लिए है. ऐसे में कयास लगाए जा रहे हैं कि दानिश अली जल्द ही कांग्रेस का दामन थाम सकते हैं.

बता दें कि दानिश अली को बीते 9 दिसंबर को बसपा ने पार्टी विरोधी गतिविधियों के आरोप में पार्टी से निलंबित कर दिया था. वह इंफाल के निकट थोबल में आयोजित कांग्रेस के उस कार्यक्रम के मंच पर अगली कतार में बैठे थे, जहां से यात्रा आरंभ हुई. इंफाल पहुंचने के बाद दानिश अली ने ‘एक्स’ पर पोस्ट किया, “आज मैंने राहुल गांधी जी की ‘भारत जोड़ो न्याय’ यात्रा में शामिल होने का फैसला किया है. ये फैसला मेरे लिए एक बहुत ही अहम फैसला है. इसे मैंने बहुत सोच समझ कर लिया है.”

उनका कहना था, “यह फैसला करते समय मेरे सामने दो रास्ते थे. एक यह कि मैं यथास्थिति को चलने दूं, जो स्थितियां हैं उन्हें वैसे ही स्वीकार लूं. जो अन्याय देश के दलित, शोषित, वंचित, अल्पसंख्यक और अन्य गरीब वर्ग के साथ हो रहा है, उसके खिलाफ कोई आवाज ना उठाऊं और दूसरा रास्ता ये था कि मैं समाज में बढ़ते अन्याय के खिलाफ संसद में आवाज उठाने के साथ-साथ सड़क पर भी संघर्ष शुरू करूं, आंदोलन करूं.” दानिश अली ने कहा, “मेरे जमीर ने कहा कि मुझे दूसरा रास्ता लेना चाहिए.

लोकसभा सदस्य ने बीजेपी सांसद रमेश बिधूड़ी की ओर से की गई आपत्तिजनक टिप्पणी का हवाला देते हुए कहा, “यह फैसला लेने का एक बड़ा कारण यह भी है कि मैं खुद इस अन्यायपूर्ण व्यवस्था का भुक्तभोगी हूं. संसद के अंदर मुझ पर जो आक्रमण हुआ वो सभी ने देखा. सत्ताधारी दल ने मुझ पर आक्रमण करने वाले के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की, बल्कि उसे पुरस्कृत किया.” उन्होंने दावा किया कि यही हाल पूरे देश का है और भय व आतंक का माहौल बनाने की कोशिश हो रही है. अली ने कहा, “जब मुझ पर संसद में आक्रमण हुआ, तब मुझे और मेरे परिवार को हौसला देने वाले राहुल गांधी जी देश के पहले नेता थे. वो उस घड़ी में मेरे साथ खड़े रहे.”

दानिश अली ने कहा, “माननीय राहुल गांधी जी की यह यात्रा कमजोर को न्याय दिलाने की और भारतवासियों को जोड़ने की यात्रा है। यह यात्रा देश की विभाजनकारी ताकतों के खिलाफ संघर्ष है। राहुल जी ने पूरे देश को जोड़ने के लिए और हर वर्ग को न्याय दिलाने के लिए यह यात्रा शुरू की है, इसलिए मैं आज राहुल जी के साथ खड़ा हूं.” उन्होंने कहा कि इस यात्रा के उद्देश्य की पूर्ति करना राजनीति और समाज सेवा से जुड़े हम सभी लोगों का असली मकसद है. साथ ही उन्होंने यात्रा की सफलता की कामना की.