×

स्पोर्ट्स

Yashasvi Jaiswal: टीम इंडिया को मिला टेस्ट क्रिकेट का दूसरा सहवाग, सर्वश्रेष्ठ उदाहरण यशस्वी

Yashasvi Jaiswal: टेस्ट क्रिकेट का दूसरा वीरेंद्र सहवाग! यशस्वी जब 191 पर थे, तब उन्होंने छक्का जड़ा और फिर चौका लगा कर अपना दोहरा शतक पूरा किया। Yashasvi Jaiswal: वीरेंद्र सहवाग की राह यशस्वी ऐसा करने के लिए जो कलेजा चाहिए होता है, वह सिर्फ वीरेंद्र सहवाग के पास ही देखा गया है। एक वीरू… Continue reading Yashasvi Jaiswal: टीम इंडिया को मिला टेस्ट क्रिकेट का दूसरा सहवाग, सर्वश्रेष्ठ उदाहरण यशस्वी

Yashasvi Jaiswal: Team India got the second Sehwag of Test cricket, Yashasvi is the best example.
Yashasvi Jaiswal: Team India got the second Sehwag of Test cricket, Yashasvi is the best example.

Yashasvi Jaiswal:

टेस्ट क्रिकेट का दूसरा वीरेंद्र सहवाग! यशस्वी जब 191 पर थे, तब उन्होंने छक्का जड़ा और फिर चौका लगा कर अपना दोहरा शतक पूरा किया।

Yashasvi Jaiswal: वीरेंद्र सहवाग की राह यशस्वी

ऐसा करने के लिए जो कलेजा चाहिए होता है, वह सिर्फ वीरेंद्र सहवाग के पास ही देखा गया है। एक वीरू ही थे जो टेस्ट क्रिकेट में डबल सेंचुरी और ट्रिपल सेंचुरी पूरी करने के दौरान बाउंड्री लगाते थे।

Yashasvi Jaiswal: यशस्वी जायसवाल का डबल सेंचुरी

इंग्लैंड के खिलाफ विशाखापट्टनम टेस्ट की पहली पारी में भारतीय टीम ने 396 रन बनाए, इसमें अकेले 209 रन का योगदान यशस्वी जायसवाल का है। दूसरे छोर से सर्वाधिक 34 रन शुभमन गिल के रहे।

ऐसा लग रहा था कि बाकी बल्लेबाज किसी दूसरी विकेट पर खतरनाक बॉलिंग आक्रमण का सामना कर रहे हैं। जबकि यशस्वी कहीं और ही बल्लेबाजी कर रन बटोर रहे हैं।

Yashasvi Jaiswal: सर्वश्रेष्ठ उदाहरण यशस्वी जायसवाल

यशस्वी जायसवाल ने इस टेस्ट मैच में वही भूमिका अदा की, जो भूमिका ओली पोप ने पहले टेस्ट में इंग्लैंड के लिए निभाई थी। फर्क यह रहा की ओली पोप ने दूसरी पारी में इंग्लैंड को जीत के लायक रन दिए थे, जबकि यशस्वी ने फर्स्ट इनिंग में ही भारत को काफी मजबूत स्थिति में पहुंचा दिया।

एक युवा बल्लेबाज किस तरह बेखौफ और निडर अंदाज में गेंदबाजी आक्रमण की धज्जियां उड़ा सकता है, इसका सर्वश्रेष्ठ उदाहरण यशस्वी जायसवाल ने पेश किया। भारत को अब चाहिए कि प्रतिभाशाली युवा खिलाड़ियों को टेस्ट टीम में मौका दिया जाए।

Yashasvi Jaiswal: सहवाग के अंदाज में यशस्वी जायसवाल

सरफराज खान जैसे युवाओं ने भी फर्स्ट क्लास क्रिकेट में यही अंदाज दिखाया है। यशस्वी जयसवाल और सरफराज खान अगर अपने तरीके से टेस्ट क्रिकेट खेलते रहेंगे, तो फिर भारत को बड़ी लीड लेने में मुश्किल नहीं आएगी। फिलहाल तो वीरेंद्र सहवाग के अंदाज में यशस्वी जायसवाल को खेलते देखकर बहुत सुकून मिल रहा है।