×

राज्य

Champai Soren Floor Test: पहली परीक्षा में पास हुए झारखंड के सीएम चंपई सोरेन, जानें क्या है अगली मुश्किल

Champai Soren Floor Test: झारखंड विधानसभा में बहुमत हासिल के लिए 41 सदस्यों का समर्थन जरूरी थी. चंपई सोरेन को 47 मत मिले और उन्होंने बहुमत हासिल कर लिया.

Champai Soren Floor Test In Jharkhand today
Champai Soren Floor Test In Jharkhand today

Champai Soren Floor Test In Jharkhand : झारखंड की राजनीति के लिए सोमवार का दिन बेहद अहम रहा. विधानसभा के विशेष सत्र में चंपई सोरेन ने बहुमत साबित किया. सरकार के पक्ष में 47 तो विपक्ष में 29 मत पड़े. इसके साथ ही सरकार ने विधानसभा में बहुमत साबित कर दिया.

वर्तमान में झारखंड विधानसभा में कुल 82 विधायक हैं. इस लिहाज से बहुमत का आंकड़ा 43 होता है. एक विधायक इस्तीफा दे चुके हैं, इसलिए सिर्फ 41 विधायकों की ही आवश्यकता थी. वहीं, उनकी अगली मुश्किल सरकार की चुनौतियां हैं. उन्हें बतौर सीएम कई अहम काम करने होंगे, जिससे उनकी छवि हेमंत सोरेन से अलग बने

50 विधायकों के समर्थन का दावा

वहीं, चंपई सोरेन के नेतृत्व में महागठबंधन सरकार में मंत्री आलमगीर आलम का कहना था कि फ्लोर टेस्ट में बहुमत का आंकड़ा 48 से 50 विधायकों के बीच भी पहुंच सकता हैं. उनका कहना था कि बहुमत हमारे पास है और हम इसे विधानसभा में साबित करके दिखाएंगे और ऐसा हुआ भी.

48 विधायकों के समर्थन का था दावा

गौरतलब है कि 82 विधानसभा वाले झारखंड में एक सीट रिक्त है. क्योंकि पिछले महीने ही जेएमएम विधायक सरफराज अहमद ने त्यागपत्र दे दिया था. ऐसे में विधानसभा में बहुमत हासिल करने के लिए 41 सदस्यों का समर्थन जरूरी था. उधर, सत्तापक्ष का दावा था कि उसके पास 48 विधायकों का समर्थन हासिल है. इसमें जेएमएम के 29, कांग्रेस के 16, आरजेडी के 1, झाविमो के 1 और सीपीआई एमएल के 1 विधायक भी शामिल हैं.

विपक्ष का दावा बहुमत नहीं सरकार के पास

उधर, विपक्षी खेमे में भारतीय जनता पार्टी के 25, झाविमो के 1 और आजसू पार्टी के दो विधायक भी हैं. दावा किया जा रहा है कि 2 निर्दलीय विधायक सरयू राय और अमित यादव भी विपक्ष के साथ हैं. इसी आधार पर एनसीपी के कमलेश सिंह ने भी पिछले दिनों जेएमएम सरकार से अपना समर्थन वापस ले लिया था.

यह भी पढ़ें: Poonam Pandey कैसे एक महीने से रच रही थी अपनी ही ‘मौत’ की साजिश, पढ़िये इनसाइड स्टोरी

हेमंत सोरेन ने भी लिया हिस्सा

हेमंत सोरेन ने सोमवार को विधानसभा के विशेष सत्र के विश्वासमत में शामिल हुए. अदालत ने उन्हें विश्वासमत के दौरान सदन में शामिल होने की अनुमति दी थी. कोर्ट की ओर से यह भी निर्देश दिया गया था कि वे मीडिया से बातचीत नहीं करेंगे. वहीं विश्वास मत के दौरान हेमंत सोरेन अगली पंक्ति में बैठे.

यह भी पढ़ें: Valentine Week Days List 2024: कब से शुरू होने वाला है प्यार का सप्ताह, जानें रोज डे से लेकर किस डे तक के बारे में