×

राजनीति

Gujarat Politics: जानिए कौन हैं विधायक चैतर वसावा?

Gujarat Politics: जेल में बंद पार्टी विधायक चैतर वसावा से मिलने आप के राष्ट्रीय संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और पार्टी नेता-पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान गुजरात के नर्मदा में मौजूद राजपिपला जेल मिलने पहुंचे. आपको बता दें कि पार्टी विधायक चैतर वसावा को अरविंद केजरीवाल ने लोकसभा चुनाव 2024 के लिए भरूच… Continue reading Gujarat Politics: जानिए कौन हैं विधायक चैतर वसावा?

Gujarat Politics
Gujarat Politics

Gujarat Politics: जेल में बंद पार्टी विधायक चैतर वसावा से मिलने आप के राष्ट्रीय संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और पार्टी नेता-पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान गुजरात के नर्मदा में मौजूद राजपिपला जेल मिलने पहुंचे. आपको बता दें कि पार्टी विधायक चैतर वसावा को अरविंद केजरीवाल ने लोकसभा चुनाव 2024 के लिए भरूच सीट से पार्टी का उम्मीदवार घोषित किया है.

लोकसभा चुनाव की तैयारी शुरू

आपको बता दें कि लोकसभी चुनाव के मद्देनजर आम आदमी पार्टी प्रमुख अरविंद केजरीवाल ने जेल में बंद विधायक चैतर वसावा को गुजरात की भरूच लोकसभा सीट से पार्टी का उम्मीदवार बनाया है.

बताते चलें कि आम आदमी पार्टी ने भरूच में एक सार्वजनिक रैली आयोजित करी और इसके साथ ही लोकसभा चुनाव की तैयारी की शुरूआत भी कर दी. इसके साथ ही सीएम केजरीवाल ने रैली को संबोधित किया और लोगों से लोकसभा चुनाव में चैतरा वसावा की जीत सुनिश्चित करने की अपील की है.

अब बात करते हैं आखिर कौन हैं चैतर वसावा?

आपको बता दें कि चैत्रभाई दामजीभाई वसावा आम आदमी पार्टी से विधायक हैं. वह 8 दिसंबर 2022 से आम आदमी पार्टी का प्रतिनिधित्व कर रहे है और इसके साथ ही डेडियापाड़ा विधानसभा क्षेत्र से गुजरात विधान सभा के सदस्य के रूप में कार्यरत हैं। जनवरी 2023 में, उन्हें गुजरात विधानसभा में AAP की प्रमुख पार्टी के नेता के रूप में नियुक्त किया गया था। सॉसेज वसावा जेल में हैं. जेल में रहते हुए अब वह भरूच सीट से उम्मीदवार होंगी.

आपको बता दें कि दूसरी पार्टी ने अभी तक भरूच में अपने उम्मीदवारों के लिए प्रक्रिया शुरू नहीं की है, लेकिन रविवार की बैठक में आप पार्टी ने अपने उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है. आप विधायक चैत्रा वसावा कॉन्स्टेंस में शामिल हो गई हैं। वह पिछले 2 महीने से जेल में हैं.

नासिक जिले के डेडियापाड़ा में 2 नवंबर के मामले में तीन दिन की पुलिस गिरफ्तारी के बाद 18 दिसंबर को एक स्थानीय अदालत ने कथित आरोपियों और वन अधिकारियों को डेनमार्क भेज दिया। लेकिन अब आप पार्टी इसे मौका बना रही है.

और भी खबरों के लिए यहां क्लिक करें