×

देश

Hit and Run Law: क्या है नया ‘हिट एंड कानून’ ?, जिसे लेकर देशभर में ट्रक-बस ड्राइवर कर रहे चक्का जाम, जानें आप भी क्या पड़ेगा असर

Hit and Run Law: यूपी, बिहार, मध्‍य प्रदेश, राजस्‍थान, गुजरात के साथ कई राज्‍यों के ट्रक ड्राइवर और ट्रांसपोर्ट ऑपरेटर सड़कों पर उतर आए हैं, जिसकी वजह है नया ‘हिट एंड रन’ कानून. कानून में ‘हिट एंड रन’ को बेहद शख्ती के साथ निपटने का प्रावधान किया गया हैं. इसके साथ ही यह भारतीय न्याय… Continue reading Hit and Run Law: क्या है नया ‘हिट एंड कानून’ ?, जिसे लेकर देशभर में ट्रक-बस ड्राइवर कर रहे चक्का जाम, जानें आप भी क्या पड़ेगा असर

Hit And Run
Hit And Run

Hit and Run Law: यूपी, बिहार, मध्‍य प्रदेश, राजस्‍थान, गुजरात के साथ कई राज्‍यों के ट्रक ड्राइवर और ट्रांसपोर्ट ऑपरेटर सड़कों पर उतर आए हैं, जिसकी वजह है नया ‘हिट एंड रन’ कानून. कानून में ‘हिट एंड रन’ को बेहद शख्ती के साथ निपटने का प्रावधान किया गया हैं. इसके साथ ही यह भारतीय न्याय संहिता का हिस्‍सा है.


देशभर में विरोध का कारण

बता दें कि ‘हिट एंड रन’ पर लाया गया नए कानून के तहत ड्राइवरों को 10 साल तक की सजा या 7 लाख रुपये जुर्माने की बात कही गई है. जिसने ड्राइवरों के होश उड़ा दिए हैं. कानून के विरोध में देश के कई राज्‍यों में ड्राइवरों ने चक्‍का जाम करना शुरू कर दिया है. इस शख्त प्रवधान के जरिए सरकार की मंशा है सड़क हादसों पर अंकुश लगाना. वहीं, ड्राइवरों के मुताबिक ये प्रवधान लाना उनके साथ ज्‍यादती है.


Hit and Run Law में किस तरह के प्रावधान का विरोध?


‘हिट एंड रन’ पर नया कानून के बाद ट्रक और बस ड्राइवर इसका विरोध कर रहे हैं। आपको बता दें कि इस प्रवधान के तहत लापरवाही से गाड़ी चलाने पर गंभीर सड़क दुर्घटना होने और पुलिस या प्रशासन के किसी अधिकारी को सूचिक न करना और भाग जाने वाले चालको को 10 साल की सजा या 7 लाख रूपये के जुर्माने का प्रावधान है.


Hit and Run Law के विरोध का क्‍या है कारण?


चक्‍काजाम करने वाले ड्राइवरों का दावा है कि ‘हिट एंड रन’ के मामलों में विदेश की तर्ज पर सख्त प्रावधान लाया गया है. इसके साथ ही इस कानून को लाने से पहले विदेश की तरह बेहतर सड़क और परिवहन व्यवस्था सुनिश्चित करने पर ध्यान दिया जाना चाहिए था. इसके अलावा ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस (AIMTC) ने बताया कि नए नियमों के कारण ड्राइवर नौकरी छोड़ रहे हैं, और देशभर में पहले से ही 25-30 फीसदी ड्राइवरों की कमी है. ऐसे में कानून का आना ड्राइवरों की किल्‍लत को और बढ़ाएंगा.

ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस ने आगे कहा कि, देश की अर्थव्यवस्था में रोड ट्रांसपोर्टरों और ड्राइवरों का बड़ा योगदान है. आपको बता दें कि, प्रदर्शनकारी ड्राइवरों का कहना है कि नए कानून के मुताबिक, ‘हिट एंड रन’ मामलों में 10 साल तक की जेल और सात लाख रुपये का जुर्माना हो सकता है। ड्राइवर इतनी बड़ी राशि कैसे भर सकते हैं.