×

राज्य

लालू और तेजस्वी की बढ़ी मुश्किलें, CBI को IRCTC घोटाले में होईकोर्ट से मिली बहस की इजाजत

लोकसभा चुनाव 2024 की तैयारियों की बीच लालू प्रसाद यादव, तेजस्वी यादव समेत लोगों की एक बार फिर से मुश्किलें बढ़ गई हैं.

नई दिल्ली. लोकसभा चुनाव 2024 की तैयारियों की बीच लालू प्रसाद यादव, तेजस्वी यादव समेत लोगों की एक बार फिर से मुश्किलें बढ़ गई हैं. लालू-तेजस्वी समेत 11 लोग आईआरसीटीसी होटल घोटाले में आरोपी हैं. दिल्ली हाईकोर्ट ने IRCTC घोटाले में अपना स्टे वापस ले लिया है. सीबीआई को अब हाईकोर्ट से निचली अदालत में आरोपियों के खिलाफ बहस करने की इजाजत मिल गई है.

इस खबर में ये है खास-

  • 2019 में सुनवाई टाल दी गई
  • लालू के रेल मंत्री रहने के दौरान घोटाला
  • घोटाले में लालू समेत 11 आरोपी हैं

2019 में सुनवाई टाल दी गई

आईआरसीटीसी घोटाले में 2019 में आरोपी विनोद कुमार अस्थाना की दलील सुनने के बाद सुनवाई को टाल दी गई थी. हालांकि दिल्ली हाईकोर्ट के नए आदेश के बाद एक बार फिर लालू सहित अन्य आरोपियों की मुश्किलें बढ़ गई है. अब आरोपियों के खिलाफ आरोप तय करने के लिए दबाव बनाने की उम्मीद है. CBI ने ट्रायल कोर्ट में आरोपियों के खिलाफ आरोप तय करने पर बहस शुरू करने के लिए उच्च न्यायालय ने केंद्रीय जांच ब्यूरो को अनुमति दे दी है.

लालू के रेल मंत्री रहने के दौरान घोटाला

सीबीआई की एक विशेष अदालत ने 20 जुलाई को लालू प्रसाद यादव और अन्य के खिलाफ सीबीआई द्वारा दायर आरोपपत्र पर संज्ञान लिया था. दरअसल में IRCTC घोटाला 2004 में लालू के रेल मंत्री रहने के दौरान हुआ. रेलवे बोर्ड ने उस दौरान रेलवे की कैटरिंग और रेलवे होटलों की सेवा को पूरी तरह IRCTC को सौंप दिया था.

घोटाले में लालू समेत 11 आरोपी हैं

इस दौरान रांची और पुरी के बीएनआर होटल के रखरखाव, संचालन और विकास को लेकर जारी टेंडर में अनियमिताएं किए जाने की बातें आई थीं. ये टेंडर 2006 में एक प्राइवेट होटल सुजाता होटल को मिला था. आरोप है कि सुजाता होटल्स के मालिकों इसके बदले लालू यादव परिवार को पटना में तीन एकड़ जमीन दी, जो बेनामी संपत्ति थी. इस मामले में भी लालू यादव, राबड़ी देवी और तेजस्वी यादव समेत 11 लोग आरोपी हैं.