×

राज्य

क्या शिवपाल यादव फिर से आयेंगे अखिलेश के साथ? सपा में संभालेंगे जिम्मेदारी! नेताजी के निधन के बाद चर्चा शुरू

शिवपाल यादव अपने भाई के निधन के बाद पहली बार मीडिया के सामने आए. उन्होंने मुलायम सिंह यादव के साथ बिताए पल को याद करते हुए कहा कि ‘नेताजी ने मुझे पढ़ाया भी था. मुझे साइकिल पर बिठाकर स्कूल भी ले जाया करते थे. जब मुझे साइकिल चलानी आ गई थी तो मैं भी नेताजी को बिठा कर ले जाता था.’

नई दिल्ली. समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के संस्थापक मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) का सोमवार को गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में निधन हो गया. वह काफी समय से बीमार चल रहे थे. मंगलवार को सपा संस्थापक का उनके पैतृक गांव सैफई में अंतिम संस्कार किया गया. मुलायम सिंह के अंतिम संस्कार में रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, तेलंगाना के मुख्यमंत्री केसीआर सहित कई बड़े नेता शामिल हुए थे. मुलायम सिंह के निधन से सैफई में उनके गांव में शोक का माहौल है. मुलायम सिंह के निधन के बाद सिर्फ उनकी स्मृतियां शेष बची है. अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) भी अपने सिर से पिता का साया उठने के बाद काफी भावुक नजर आ रहे हैं.

इस खबर में ये है खास-

  • शिवपाल ने नेताजी को किया याद
  • सपा में जिम्मेदारी पर बोले शिवपाल
  • नेताजी से पूछकर बनाई थी नई पार्टी
  • चाचा भतीजे के रिश्ते में है दरार

शिवपाल ने नेताजी को किया याद

बुधवार को मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) के घर पर शुद्धिकरण का कार्यक्रम हुआ. इस कार्यक्रम में मुलायम सिंह के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलने वाले उनके भाई शिवपाल यादव (Shivpal Singh Yadav) भी नजर आए. शिवपाल यादव अपने भाई के निधन के बाद पहली बार मीडिया के सामने आए. उन्होंने मुलायम सिंह यादव के साथ बिताए पल को याद करते हुए कहा कि ‘नेताजी ने मुझे पढ़ाया भी था. मुझे साइकिल पर बिठाकर स्कूल भी ले जाया करते थे. जब मुझे साइकिल चलानी आ गई थी तो मैं भी नेताजी को बिठा कर ले जाता था.’

सपा में जिम्मेदारी पर बोले शिवपाल

शिवपाल यादव से समाजवादी पार्टी और यादव परिवार में भूमिका के बारे में सवाल पूंछा गया. साथ ही सवाल किया गया कि क्या वह आगे मुलायम सिंह यादव की तरह समाजवादी पार्टी के संरक्षक की भूमिका में नजर आयेंगे. इस पर शिवपाल यादव ने कहा कि फिलहाल अभी नेताजी के निधन से पूरा परिवार गम में डूबा हुआ है. इन सब बातों पर अभी सोचने का वक्त का नहीं है. हालांकि प्रसपा के अध्यक्ष शिवपाल यादव ने कहा कि मुझे जो भी जिम्मेदारी मिलेगी, उसे निभाऊंगा. अगर कोई जिम्मेदारी नहीं मिलती है, तो कोई बात नहीं है.

Also Read: Mulayam Singh: मुलायम सिंह यादव से कैसे बन गए धरती पुत्र, जानें दिलचस्प कहानी

नेताजी से पूछकर बनाई थी नई पार्टी

शिवपाल यादव ने कहा कि जो लोग हमारे साथ हैं, जिन्हें सम्मान नहीं मिला. उन्हें साथ लेकर आयेंगे और सबको इकट्ठा करने का काम करेंगे. उन्होंने कहा कि दो भी नेताजी ने बात कही, उसको हमेशा पूरा किया. साथ प्रगितशील समाजवादी पार्टी लोहिया के अध्यक्ष ने कहा कि मैंने हमेशा से उनका आदेश माना. उन्होंने कहा कि जब मैने नई पार्टी बनाई तो नेताजी जी पूछकर ही नई पार्टी बनाई थी. बिना उनके आदेश के कोई काम नहीं किया.

चाचा भतीजे के रिश्ते में है दरार

बता दें कि शिवपाल सिंह यादव की समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) के साथ नाराजगी किसी से छिपी नहीं है. कई मौके पर चाचा भतीजे आमने सामने आ चुके हैं. एक समय चाचा भतीजे के बीच इस कदर लड़ाई हुई कि शिवपाल सिंह यादव नाराज होकर सपा से अलग होने के बाद अपनी नई पार्टी प्रगतिशील दोनों के बीच समाजवादी पार्टी बना ली. हालांकि शिवपाल ने 2022 का विधानसभा चुनाव सपा के साथ मिलकर लड़ा था, लेकिन कुछ समय बाद फिर से दोनों के रिश्ते में खटास आ गई.