×

राजनीति

9वीं बार बिहार के मुख्यमंत्री बने नीतीश कुमार, जानिए मंत्रिमंडल में कौन-से चेहरे हुए शामिल

बिहार की राजनीति में कई दिनों से चल रही उथल-पुथल और कयासबाजी,आज रव‍िवार को सही साबि‍त हो गई. नीतीश कुमार ने महागठबंधन सरकार से इस्‍तीफा देकर एक बार फिर NDA के साथ सरकार बना ली. इस बार भी वहीं मुख्‍यमंत्री के पद पर आसीन हुए. राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ अर्लेकर ने उन्हें मुख्यमंत्री पद की शपथ… Continue reading 9वीं बार बिहार के मुख्यमंत्री बने नीतीश कुमार, जानिए मंत्रिमंडल में कौन-से चेहरे हुए शामिल

मुख्यमंत्री, उप मुख्यमंत्री IMAGE
मुख्यमंत्री, उप मुख्यमंत्री IMAGE

बिहार की राजनीति में कई दिनों से चल रही उथल-पुथल और कयासबाजी,आज रव‍िवार को सही साबि‍त हो गई. नीतीश कुमार ने महागठबंधन सरकार से इस्‍तीफा देकर एक बार फिर NDA के साथ सरकार बना ली. इस बार भी वहीं मुख्‍यमंत्री के पद पर आसीन हुए. राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ अर्लेकर ने उन्हें मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई. इसके साथ ही विजय कुमार सिन्हा और सम्राट चौधरी ने उप मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली. इसके बाद डॉ. प्रेम कुमार, विजय चौधरी, विजेंद्र यादव, श्रवण कुमार, संतोष कुमार सुमन और निर्दलीय विधायक सुमित सिंह ने मंत्री के रूप में शपथ ली है. आइए उनके बारे में जानते है.

कौन हैं सम्राट चौधरी?

नीतीश कुमार के मुख्‍यमंत्री बनने के साथ-साथ सम्राट चौधरी बिहार के नए उप मुख्यमंत्री बन गए है. सम्राट चौधरी, शकुनी चौधरी के बेटे है. बिहार की राजनीति में शकुनी चौधरी बड़ा नाम रहा है. समता पार्टी के संस्थापक सदस्यों में से शकुनी चौधरी भी एक है. बिहार में कुशवाहा समाज के बड़े नेताओं में शकुनी चौधरी शुमार किए जाते है. अब सम्राट चौधरी अपने पिता की विरासत को आगे बढ़ा रहे है.

साल 1990 में सक्रिय राजनीति में उतरने वाले सम्राट चौधरी ने अपने करियर की शुरुआत राष्ट्रीय जनता दल से की थी. साल 1999 में बिहार की राबड़ी सरकार वे कृषि मंत्री भी रहे. सम्राट चौधरी की कम उम्र को लेकर विवाद हुआ और उन्हें अयोग्य घोषित कर दिया गया. साल 2018 में सम्राट चौधरी ने राजद से नाता तोड़कर भाजपा की सदस्यता अपना ली. भाजपा में आने के बाद से सम्राट चौधरी का राजनीतिक कद लगातार बढ़ता गया और पार्टी ने साल 2022 में उन्हें प्रदेश अध्यक्ष बनाया.

विजय सिन्हा के बारे में भी जानिए

नीतीश कुमार के साथ जिन दो उप मुख्यमंत्रियों को शपथ दिलाई गई, उनमें से एक भाजपा नेता विजय कुमार सिन्हा है. विजय सिन्हा ने सियासी सफर की शुरुआत 1982 में की. माना जाता है कि दुर्गा पूजा समिति के सचिव के रूप में इन्होंने 42 साल से पहले सार्वजनिक सियासत की शुरुआत की. विजय कुमार सिन्हा जाति की राजनीति के कारण सुर्खियों में रहने वाले प्रदेश में भूमिहार जाति का प्रतिनिधित्व करते है. RSS से जुड़ाव के कारण विजय सिन्हा बिहार की राजनीति में भाजपा के प्रमुख चेहरों में गिने जाते है. विजय सिन्हा का उप मुख्यमंत्री बनना भाजपा की सधी हुई सियासी चाल के रूप में देखा जा रहा है.

संतोष कुमार मांझी ने ली शपथ

NDA के घटक दल हिन्दुस्तानी आवाम मोर्चा के संरक्षक जीतन राम मांझी के बेटे संतोष मांझी ने भी मंत्री पद की शपथ ली. मांझी पिछले तीन दिन से काफी चर्चा में थे. इनकी पार्टी से केवल चार विधायक है.

जदयू के नेता विजय कुमार भी मंत्रिमंडल में शामिल

नीतीश कुमार के करीबी माने जाने वाले विजय कुमार चौधरी ने भी मंत्री पद की शपथ ली है. पिछली सरकार में वह वित्त, वाणिज्यिक कर और संसदीय मामलों के मंत्रालय के कैबिनेट मंत्री थे. उन्हें जदयू में दूसरा बड़ा नेता माना जाता है और वह नीतीश कुमार की उस कोर कमेटी के सदस्य भी है, जो सरकार और पार्टी की नीतियों को आकार देती है.

श्रवण कुमार भी नीतीश सरकार में मंत्री

जदयू के श्रवण कुमार ने भी मंत्री पद की शपथ ली. पिछली नीतीश कुमार सरकार में ग्रामीण विकास और संसदीय कार्य मंत्री थे. जेपी आंदोलन से उनका सियासी सफर शुरू हुआ था. वह 1995 से नालंदा क्षेत्र से विधायक रहे है. इसके अलावा, वह विधानसभा में जदयू के मुख्य सतेतक रहे है. उन्हें भी नीतीश कुमार का करीबी माना जाता है.

भाजपा के डॉ. प्रेम कुमार ने भी ली शपथ

नीतीश के नए मंत्रिमंडल में मंत्री के रूप में भाजपा नेता डॉ. प्रेम कुमार ने भी शपथ ली है. वह 1990 से बिहार विधानसभा के सदस्य रहे है. साल 2017 में उन्हें सरकार में कृषि विभाग सौंपा गया था. इससे पहले वह सड़क निर्माण विभाग और सार्वजनिक स्वास्थ्य विभाग संभाल चुके है.

संतोष कुमार सुमन को भी मिली मंत्रिमंडल में जगह

पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी के बेटे संतोष कुमार सुमन को भी मंत्रिमंडल में जगह दी गई है. हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के नेता समुन पिछली सरकार लघु सिंचाई और अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति कल्याण मंत्री रहे है.

निर्दलीय विधायक सुमित कुमार भी बने मंत्री

निर्दलीय विधायक सुमित कुमार सिंह ने भी मंत्री पद की शपथ ली. 2020 के विधानसभा चुनाव में सुमित कुमार सिंह निर्दलीय विधायक चुने गए थे. इसके बाद वह NDA सरकार में मंत्री बने. फिर, महागठबंधन सरकार में भी मंत्री बने. अब फिर से NDA 2.0 में भी मंत्री बने है.

और भी खबरों के लिए यहां क्लिक करें.