×

Uttar Pradesh

अयोध्या: रामलला प्राण प्रतिष्ठा की तैयारी पूरी, दुल्हन की तरह सजी अयोध्या नगरी

Ayodhya Ram Mandir: राम मंदिर ही नहीं पूरी अध्योध्या नगरी को फूलों से महका दिया गया है। राम मंदिर के अंदर और बाहर कई किस्मों की फूलों से सजावट की गई है।

Ram Mandir
Ram Mandir

Ayodhya Ram Mandir: 22 जनवरी कल (सोमवार) को रामलला की प्राण प्रतिष्ठा होगी। प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम को लेकर अभी से तैयारियां शुरू हो गई हैं। आपको बता दें कि राम मंदिर ही नहीं पूरी अध्योध्या नगरी को फूलों से महका दिया गया है। राम मंदिर के अंदर और बाहर कई किस्मों की फूलों से सजावट की गई है। मंदिर का मुख्य द्वार फूलों से सुशोभित हो रहा है। इसके अलावा शानदार लाइटिंग से पूरा मंदिर जगमगा रहा है।

श्रीराम जन्मभूमि परिसर भव्य रूप देखकर हर कोई मोहित हो रहा है। राम मंदिर परिसर के मुख्य द्वार पर गेंदे के फूलों से प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव में आए हुए सभी भक्तों का श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट स्वागत करता है। वेलकम नोट लिखा गया है।


आपको बता दें कि राम मंदिर का निर्माण मशहूर वास्तुकार चंद्रकांत सोमपुरा की देखरेख में शास्त्रीय परंपरा के अनुसार नागर शैली में किया गया है। जिसकी लंबाई पूर्व से पश्चिम की ओर 380 फीट और चौड़ाई उत्तर से दक्षिण की ओर 250 फीट है।

आपको बता दें कि राम मंदिर निर्माण कार्य पूरा होने के बाद राम मंदिर की नींव से शिखर तक की ऊंचाई 161 फीट होगी। राम मंदिर के स्तंभों और दीवारों पर देवी,देवताओं की प्रतिमा बनाई गई हैं। मंदिर तीन मंजिल का होगा। हर मंजिल की ऊंचाई 20 फीट रखी जाएगी।


राम मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मुख्य यजमान होंगे। प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 11 दिन का विशेष अनुष्ठान कर रहे हैं। नियमों का पालन कर रहे हैं। वह जमीन पर सो रहे हैं और आहार में सिर्फ नारियल पानी का सेवन कर रहे हैं। इसके अलावा वह ब्रह्म मुहूर्त में उठकर विशेष मंत्रों का जाप भी कर रहे हैं।


सिद्ध संतों से प्राप्त मंत्रो का उच्चारण कर रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 12 जनवरी से अपने 11 दिवसीय अनुष्ठान की शुरुआत की थी। वे देश के अलग अलग मंदिरों में जाकर दर्शन पूजन कर रहे हैं। वह अब तक आंध्र प्रदेश, नासिक, केरल और तमिलनाडु के विभिन्न मंदिरों में जा चुके हैं। आपको बता दें कि ये सभी मंदिर किसी न किसी प्रकार से भगवान राम से जुड़े हुए हैं।