×

Uttar Pradesh

Lok Sabha Elections 2024: पश्चिमी उत्तर प्रदेश की 23 सीटों पर भाजपा की नजर, कौमी चौपाल से साधेंगे मतदाताओं को

Lok Sabha Elections 2024: असल में पश्चिम उत्तर प्रदेश देश की राजधानी से सटा है. नोएडा गाजियाबाद को प्रदेश का शो विंडो कहा जा जाता है. यहां के कई जिलों में बीजेपी का जबरदस्त जनाधार है. भाजपा इसी को भुनाते हुए अपने चुनाव अभियान की शुरुआत पश्चिम से ही करती है.

BJP eyes 23 seats of Western Uttar Pradesh in Lok Sabha Elections 2024
BJP eyes 23 seats of Western Uttar Pradesh in Lok Sabha Elections 2024

Lok Sabha Elections 2024: भारतीय जनता पार्टी ने लोकसभा 2024 के चुनाव अभियान की शुरुआत कर दी है और पश्चिमी उत्तर प्रदेश की लोकसभा सीटों पर ध्यान केंद्रित किया है. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के बुलंदशहर दौरे के बाद पार्टी ने इन 23 सीटों पर कौमी चौपाल आयोजित करने का निर्णय लिया है.

इस चौपाल का मुख्य उद्देश्य है मुस्लिमों को भी समाहित करना और उन्हें भाजपा से जोड़ने का प्रयास करना है. यह स्थानीय समुदायों के बीच सांघर्ष और समर्थन का केंद्र हो सकता है.

लोकसभा 2024 का आगाज कर चुकी बीजेपी अब चुनाव अभियान को धार देने में जुट गई है. पीएम के बुलंदशहर दौरे के बाद बीजेपी की अब पश्चिम की 23 लोकसभा सीटों पर नजर है. पार्टी का अल्पसंख्यक मोर्चा अब इन सीटों पर कौमी चौपाल का आयोजन करेगा. कौमी चौपाल में मुस्लिमों को बीजेपी से जोड़ने के लिए आयोजन होंगे.

10 फरवरी से होंगे आयोजन

कौमी चौपाल का आयोजन 10 फरवरी से होगा. पश्चिमी उत्तर प्रदेश के सहारनपुर, बुलंदशहर, गाजियाबाद, नोएडा, मुजफ्फरनगर, बिजनौर, मुरादाबाद, बरेली, रामपुर, आगरा, अलीगढ़, बिजनौर, अमरोहा और बागपत जिले में मुस्लिमों को पार्टी की रीति नीति बताई जाएगी.
आयोजन के लिए करीब 4100 गांवों को चुना गया है. इन जिलों में भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता और पदाधिकारी प्रवास करेंगे और केंद्र सरकार की योजनाओं के बारे में बताएंगे. पहले चरण की शुरुआत मुजफ्फरनगर के कसेरला गांव से होगी.

घरों या मदरसों में होंगी चौपाल

कौमी चौपाल के गांवों के संभ्रांत व्यक्तियों को चुना गया है. इनके घरों के चबूतरे पर या फिर संबंधित गांव में मदरसे पर कौमी चौपाल का आयोजन होगा. कार्यक्रमों के दौरान बीजेपी के मुस्लिम मोर्चों के पदाधिकारी गांव का दौरा करेंगे और लोगों को पार्टी से जोडेंगे.

सभी लोकसभा क्षेत्रों में एक-एक प्रभारी भी नियुक्त किया गया है. यह प्रभारी लोगों को कौमी एकता के आयोजन के बारे में लोगों को जागरूक करेगा. प्रभारी के नेतृत्व में ही इन चौपालों का आयोजन होगा.

भाजपा ने बुलंदशहर से की है 24 की शुरुआत

हर चुनाव की तरह इस बार भी बीजेपी ने अपने लोकसभा चुनाव अभियान की शुरूआत पश्चिम यूपी से ही की है. 25 जनवरी को बुलंदशहर से की थी. मोदी ने यहां रैली को संबोधित किया और कई हजार करोड़ रुपये की परियोजनाओं का लोकार्पण भी किया था.

यह भी पढ़ें: Bharat Ratna Lal Krishna Advani ने किस स्कूल से की है पढ़ाई? हमेशा आते थे फर्स्ट; मिलती थी टीचर्स से तारीफ

बीजेपी का 2019 और 2014 का लोकसभा चुनाव अभियान भी पश्चिम से ही शुरू हुआ था. 2014 में मोदी बुलंदशहर से आगे बढ़े वहीं वर्ष 2017 और 2022 के विधानसभा में भी पश्चिम से ही आगाज हुआ था.

पश्चिम से मिलता है जीत का बूस्टर

असल में पश्चिम उत्तर प्रदेश देश की राजधानी से सटा है. नोएडा गाजियाबाद को प्रदेश का शो विंडो कहा जा जाता है. यहां के कई जिलों में बीजेपी का जबरदस्त जनाधार है. भाजपा इसी को भुनाते हुए अपने चुनाव अभियान की शुरुआत पश्चिम से ही करती है.

रिपोर्ट: आशुतोष अग्निहोत्री (स्थानीय संपादक, इंडिया अहेड) का विश्लेषण

यह भी पढ़ें: Ayodhya Ram Mandir: रामलला के दर्शन के लिए अयोध्या में भक्तों का जनसैलाब, अब तक आया 12 करोड़ से अधिक का चढ़ावा