×

Uttar Pradesh

योगी राज का ‘दम’, यूपी में अपराधी ‘बेदम’

उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) सरकार के आने के बाद ना केवल ख़ाकी का इकबाल बुलंद हुआ है, बल्कि पेशेवर अपराधियों और माफियाओं को मिट्टी में मिलाने का काम भी सीएम योगी आदित्यनाथ की सरकार ने किया है. कानून व्यवस्था से जुड़ा ताज़ा मामला यूपी के कन्नौज से जुड़ा है. गुरूवार को कन्नौज… Continue reading योगी राज का ‘दम’, यूपी में अपराधी ‘बेदम’

योगी

उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) सरकार के आने के बाद ना केवल ख़ाकी का इकबाल बुलंद हुआ है, बल्कि पेशेवर अपराधियों और माफियाओं को मिट्टी में मिलाने का काम भी सीएम योगी आदित्यनाथ की सरकार ने किया है. कानून व्यवस्था से जुड़ा ताज़ा मामला यूपी के कन्नौज से जुड़ा है. गुरूवार को कन्नौज पुलिस ने शातिर लुटेरे को एनकांउटर में ढेर कर दिया. जबकि उसका दूसरा साथी पुलिस की गोली लगने से घायल हो गया.

बता दें कि बीते शुक्रवार को शातिर लुटेरे इज़हार ने सर्राफ कारोबारी अयाज़ को गोली मारकर 20 लाख के जेवर और नकदी लूट लिए थे. जिसमें अयाज की इलाज के दौरान मौत हो गई थी. गुरूवार सुबह एनकांउटर में दो पुलिसकर्मी भी घायल हुए है.

दरअसल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के अब तक के कार्यकाल में पुलिस और अपराधियों के बीच 9,434 से ज्यादा मुठभेड़ें हुई हैं, जिसमें 183 अपराधी जान से मारे गए है.

बीते शुक्रवार को कन्नौज के गुरूसहायगंज कोतवाली के कस्बा समधन के कस्बा दारा सराय के रहने वाले सर्राफ करोबारी अयाज़ से 20 लाख के जेवर और नकदी की लूट की वारदात को अंजाम देने वाले शातिर लूटेरे इज़हार को पुलिस ने गुरूवार को सुबह को एनकाउंटर में ढेर कर दिया. जबकि उसका साथी गंभीर रूप से घायल हो गय. एनकांउटर में दो पुलिसकर्मी भी घायल हुए है.

दरअसल शातिर लुटेरे इज़हार ने बीते शुक्रवार को सर्राफ करोबारी अयाज को गोली मारकर 20 लाख के जेवर और नकदी लूट लिए थे. इसमें इलाज के दौरान सर्राफ कारोबारी अयाज़ की मौत हो गई थी. गुरूवार को पुलिस को सूचना मिली की कुछ संदिग्ध लोग बाइक से निकल रहे है. जिसके बाद कन्नौज पुलिस ने बदमाशों की घेराबंदी शुरू कर दी. खुद को घिरता देख बदमाशों ने पुलिस के उपर फायरिंग कर दी. जवाबी कार्रवाई में पुलिस की गोली लगने से शातिर लुटेरा इज़हार एनकांउटर में ढेर हो गया. कन्नौज में गुरूवार को अलसुबह हुए एनकांउटर के बाद अपराध और अपराधियों के खेमे में खलबली मच गई क्योंकि योगी की सरकार में बुलंद हुए ख़ाकी के इकबाल के आगे पेशेवर अपराधी और माफिया घुटने टेक रहे हैं.

दरअसल 2017 में उत्तर प्रदेश में योगी शासन आने के बाद अपराधी या तो जेल में गए या रेल में या फिर तख्तियां गले में टांगकर ज़रायम की दुनिया से तौबा करने के लिए थानों में पहुंच गए. प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ की कानून व्यवस्था को लेकर की गई सख्ती का असर उनके सत्ता संभालने के बाद ही दिखाई देने लगा था, क्योंकि सीएम योगी ने साफ कहा था कि कानून व्यवस्था को लेकर किसी भी तरह की लापरवाही को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा और उसका असर ये है कि योगी की पुलिस ने कुख्यात अपराधियों को या तो सलाखों के पीछे पहुंचा दिया या फिर परलोक में, आईये आपको आंकड़ों के ज़रिए समझाते है कि 2017 से लेकर अब तक कितने एनकांउटर हुए.

ये रहा एनकाउंटर का आंकड़ा

पुलिस और बदमाशों के बीच हुई 9,434 मुठभेड़

5,046 अपराधियों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

183 कुख्यात अपराधी और माफिया पुलिस एनकांउटर में मारे गए

साल 2018 में एनकाउंटर में मारे गए सर्वाधिक 41 बदमाश

तस्वीर आईने की तरह बिल्कुल साफ है कि उत्तर प्रदेश में योगी सरकार में आने से पहले ना केवल जंगलराज बल्कि ख़ाकी के उपर सफेदपोशों की आड़ में ज़रायम की काली दुनिया पर राज करने वाले भारी पडते थे, लेकिन भाजपा के सत्ता में आने के बाद प्रदेश की कानून व्यवस्था का निजाम बदल गया. हवा रूख बदला तो फिर ख़ाकी की खनक ने क्राइम कंट्रोल करने के लिए टॉप मोस्ट वांटेड अपराधियों की कुंडली को ऐसा खंगाला कि गुनाह को खुलेआम करने वाले अपराधियों ने पलायन तक करना शुरू कर दिया.