×

Uttar Pradesh

Gyanvapi Case : वाराणसी जिला कोर्ट ने हिंदुओं को दी राहत, ज्ञानवापी व्यास तहखाने में पूजा-पाठ की मिली इजाजत

Gyanvapi Case Verdict: वाराणसी जिला कोर्ट ने हिंदू पक्ष को ज्ञानवापी के व्यास तहखाने में पूजा-पाठ और अर्चना की इजाजत दे दी है.

Gyanvapi Case
Gyanvapi Case

Gyanvapi Case Update ज्ञानवापी मामले में वाराणसी से बड़ी और अहम खबर आ रही है. वाराणसी की जिला कोर्ट ने बुधवार को हिंदुओं को बड़ी राहत देते हुए ज्ञानवापी के व्यास तहखाने में पूजा-अर्चना करने का अधिकार दे दिया है.

इसके साथ ही कोर्ट ने अपने फैसले में यह भी कहा है कि एक सप्ताह के भीतर जिला प्रशासन बैरिकेडिंग करे, क्योंकि यह तहखाना मस्जिद से नीचे है. इस फैसले के बाद हिंदू समुदाय के बीच खुशी की लहर है. हिंदू संगठनों ने कोर्ट के इस फैसले पर खुशी जताई है. इस फैसले के बाद यहां पर अब नियमित पूजा हो सकेगी.

कौन कराएगा पूजा-अर्चना

बताया जा रहा है कि ज्ञानवापी के व्यास तहखाने में हिंदू पक्ष को पूजा अर्चना करने का जिम्मा काशी विश्वनाथ ट्रस्ट बोर्ड (Kashi Vishwanath Trust Board) उठाएगा. हिंदू पक्ष की मानें तो नवंबर, 1993 तक यहां पर पूजा-अर्चना की जाती थी. फिर बंद हो गई और अब 30 साल बाद हिंदुओं को यह अधिकार मिला है.

शैलेंद्र पाठक की याचिका पर आया फैसला
यहां पर बता दें कि शैलेंद्र पाठक ने ज्ञानवापी के व्यास तहखाने में हिंदू पक्ष को पूजा अर्चना करने की मांग वाली याचिका दायर की थी. उन्होंने कहा कहा था कि वाराणसी के ज्ञानवापी परिसर स्थित व्यास तहखाना में में पूजा अर्चना का अधिकार हिंदू पक्ष को दिया जाए.

यह भी पढ़ें:

‘महाराज’ का अयोध्या ‘मैनेजमेंट’

मंगलवार को सुरक्षित रख लिया था फैसला

उधर, दोनों पक्षों को सुनने के बाद कोर्ट ने फैसला मंगलवार को सुरक्षित रख लिया था, जिस पर बुधवार को फैसला सुनाया है. हिंदू पक्ष का कहना है कि तत्कालीन प्रदेश सरकार ने नवंबर, 1993 से पहले व्यास तहखाने में पूजा अर्चना रुकवा दी थी.

मुस्लिम पक्ष भी गया था कोर्ट

उधर, मुस्लिम पक्ष ने यह कहते हुए शैलेंद्र पाठक की याचिका खारिज करने की मांग की थी कि यह प्लेस ऑफ वर्शिप एक्ट के तहत आता है. उधर, बुधवार को वाराणसी जिला कोर्ट ने हिंदुओं के पक्ष में फैसला देते हुए ज्ञानवापी के व्यास तहखाने में पूजा पाठ करने की अनुमति दे दी है.

यह भी पढ़ें: Watch Video: भक्तों ने रामलला को दी अनोखी भेंट, चांदी की झाड़ू से साफ होगा गर्भगृह