×

Uttar Pradesh

सबके राम: जिस परिवार ने 7 दशक कोर्ट में किया विरोध, उसे भी मिला प्राण प्रतिष्ठा का निमंत्रण

22 जनवरी को रामलला अपने भव्य महल में विराजमान होंगे. राम मंदिर न सिर्फ धार्मिकता बल्कि ‘सबके राम’ की अवधारणा को भी आगे बढ़ाने का काम करने जा रहा है. इसकी झलक राम मंदिर ट्रस्ट ने बाबरी मस्जिद के पक्षकार रहे इकबाल अंसारी (Iqbal Ansari) को निमंत्रण देकर दे दी है. इकबाल अंसारी, हाशिम अंसारी… Continue reading सबके राम: जिस परिवार ने 7 दशक कोर्ट में किया विरोध, उसे भी मिला प्राण प्रतिष्ठा का निमंत्रण

22 जनवरी को रामलला अपने भव्य महल में विराजमान होंगे. राम मंदिर न सिर्फ धार्मिकता बल्कि ‘सबके राम’ की अवधारणा को भी आगे बढ़ाने का काम करने जा रहा है. इसकी झलक राम मंदिर ट्रस्ट ने बाबरी मस्जिद के पक्षकार रहे इकबाल अंसारी (Iqbal Ansari) को निमंत्रण देकर दे दी है. इकबाल अंसारी, हाशिम अंसारी के पुत्र हैं, इनके परिवार ने 70 सालों तक राम मंदिर के विरोध में कोर्ट में याचिकाएं दाखिल कीं, और मस्जिद की पैरवी करते रहे.

अंसारी 1949 से मुकदमें की पैरवी कर रहे थे. विवादित स्थल के दूसरे प्रमुख दावेदारों में निर्मोही अखाड़ा के रामकेवल दास और दिगंबर अखाड़ा के रामचंद्र परमहंस से हाशिम की अंत तक गहरी दोस्ती रही थी. हाशिम अंसारी की मृत्यु के बाद उनके पुत्र इकबाल अंसारी ने कोर्ट में बाबरी मस्जिद का पक्ष रखा था. 9 नवंबर 2019 को सुप्रीम कोर्ट ने राम मंदिर के पक्ष में फैसला सुनाया था. यानि जिस परिवार ने लोअर कोर्ट से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक राम मंदिर का विरोध किया उस परिवार के मुखिया को आज राम मंदिर ट्रस्ट ने प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम का निमंत्रण दिया है.

आमंत्रण पत्र मिलने से उत्साहित हैं इकबाल अंसारी
प्राण प्रतिष्ठा का आमंत्रण पत्र पाकर इकबाल अंसारी उत्साहित हैं. उन्होंने कहा कि हम भगवान राम लला के परिसर में जाएंगे और प्रतिष्ठा में शामिल होंगे. साथ ही भगवान का दर्शन भी करेंगे. इकबाल अंसारी ने कहा कि अयोध्या आने वाले मेहमान प्रतिष्ठा में शामिल होंगे और मेहमानों का स्वागत करना भी हमारा धर्म है. इसलिए उनका हम स्वागत भी करेंगे. इकबाल अंसारी को बाकायदा कार्ड के साथ राम जन्मभूमि परिसर में प्रवेश के लिए वाहन पास भी दिया गया है. इकबाल अंसारी ने प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात की इच्छा जाहिर की है.