×

राज्य

Weather Update: दिल्ली-NCR के करोड़ों लोगों को क्यों नहीं मिल पा रही ठंड से राहत, सामने आई वजह

Weather Update: भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार, आगामी तीन दिनों तक इसी तरह सुबह और शाम बर्फीली हवाएं चलती रहेंगी, जिससे धूप भी बेअसर रहेगी.

Weather Update: Why crores of people of Delhi-NCR are not getting relief from cold
Weather Update: Why crores of people of Delhi-NCR are not getting relief from cold

Delhi Weather Today: फरवरी का दूसरा सप्ताह शुरू हो चुका है, लेकिन दिल्ली-एनसीआर समेत समूचे उत्तर भारत में ठंड कम होने के नाम नहीं ले रही है. बृहस्पतिवार (8 फरवरी) की सुबह भी कंपकंपाती ठंड के बीच लोग घरों से काम के लिए निकले. खासतौर से स्कूलों जाने वाले छात्र-छात्राओं को अधिक दिक्कत पेश आ रही है. इस बीच भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार, आगामी तीन दिनों तक इसी तरह सुबह और शाम बर्फीली हवाएं चलती रहेंगी, जिससे धूप भी बेअसर रहेगी. मौसम विभाग ने बृहस्पतिवार को दिल्ली में मौसम साफ रहने का अनुमान जताया है.

10-20 किलोमीटर की रफ्तार से चलेगी हवा

दिल्ली-एनसीआर में धूप तो निकल रही है, लेकिन बर्फीली हवाओं के चलते लोगों को दिक्कत पेश आ रही है. हवाओं के चलते ही धूप का असर अधिक नहीं है. इस बीच मौसम विभाग के अनुसार, बृहस्पतिवार को भी दिल्ली के साथ एनसीआर के शहरों में भी 12 से 20 किलोमाटर की रफ्तार से हवाओं के चलने का अनुमान है. मौसम विभाग के अनुसार, शुक्रवार को हवा भी रफ्तार में कमी आएगी. इस दिन 6-12 किलोमीटर की रफ्तार से हवाएं चलेगी.

बारिश के कोई आसार नहीं

मौसम विभाग के अनुसार, बृहस्पतिवार को न्यूनतम तापमान 7 डिग्री सेल्सियस के आसपास रह सकता है, जबकि अधिकतम तापमान 21 डिग्री सेल्सियस रहने का अनुमान जताया गया है. यह भी जानकारी सामने आ रही है कि आगामी 4-5 दिनों तक प्रदेश का न्यूनतम तापमान 7 डिग्री के आस पास रह सकता है. वहीं, मौसम विभाग के अनुसार, इस पूरे सप्ताह देश की राजधानी दिल्ली और एनसीआर के कई इलाकों में बरसात की कोई संभावना नहीं है.

यह भी पढ़ें: Maharashtra Politics: भतीजे ने कैप्चर की NCP तो शरद पवार गुट को मिला नया नाम, क्या RS चुनाव में होगा इस्तेमाल

इस साल कम दिन पड़ी ठंड

गौरतलब है कि इस बार जनवरी के महीने में ठीकठाक ठंड बड़ी है. यह अलग बात है कि अल नीनो के प्रभाव से इस वर्ष ठंड के दिनों में कमी आई है. इसको लेकर मौसम विज्ञानी भी चिंतित हैं, क्योंकि इसके असर से फसलों का उत्पादन प्रभावित होता है.

यह भी पढ़ें: Uttarakhand UCC: उत्तराखंड ने रचा इतिहास, UCC बिल हुआ पास, गर्वनर के हस्ताक्षर के बाद बन जाएगा कानून