×

राज्य

Banwari Lal Purohit ने पंजाब के राज्यपाल के पद से क्यों दिया इस्तीफा? जानिये क्या है कांग्रेस से पुराना कनेक्शन?

Banwari Lal Purohit शनिवार (3 फरवरी) को बनवारी लाल पुरोहित ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया. वहीं, इसके पहले वह दो बार कांग्रेस के टिकट से इसी सीट से सांसद रह चुके हैं.

Banwari Lal Purohit profile Everything You need know about former Governor of Punjab
Banwari Lal Purohit profile Everything You need know about former Governor of Punjab

Banwari Lal Purohit : पंजाब के राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित (Banwari Lal Purohit) ने शनिवार को अपने पद से अचानक इस्तीफा देकर राजनीतिक गलियारों में हलचल मचा दी. बनवारीलाल पुरोहित का लंबे समय से पंजाब में सत्तासीन आम आदमी पार्टी सरकार के मुखिया भगवंत मान के साथ विवाद चल रहा था. कई मुद्दों पर दोनों का कभी अप्रत्यक्ष तो कभी प्रत्यक्ष तौर पर टकराव हुआ, लेकिन इस्तीफे के एलान ने सबको चौंका दिया है.

निजी कारणों का दिया हवाला

बनवारीलाल पुरोहित (Banwari Lal Purohit) ने शनिवार को अपना इस्तीफा राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु को भेज दिया. इस इस्तीफे में उन्होंने निजी कारणों का हवाला दिया. बनवारीलाल पुरोहित ने राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू (Droupadi Murmu) के नाम चिट्ठी भी लिखी, जिसमें उन्होंने व्यक्तिगत कारणों और अन्य प्रतिबद्धता के कारण हटने की बात कही. उन्होंने लिखा है- ‘मैं पंजाब के गवर्नर और केंद्र शासित प्रदेश चंडीगढ़ के प्रशासक के तौर पर अपना इस्तीफा देता हूं. कृपया इसे स्वीकार करें.’

यह भी पढ़ें: Bharat Ratna: लालकृष्ण आडवाणी ने कैसे बदल दी देश की राजनीति? अब मिलेगा ‘भारत रत्न’

कांग्रेस में भी रह चुके हैं बनवारी लाल पुरोहित

बनवारी लाल पुरोहित (23) का कई दशकों का राजनीतिक जीवन रहा है. वह कांग्रेस पार्टी से भी सांसद रह चुके हैं. बनवारी लाल पुरोहित भारतीय जनता पार्टी की तरफ से नागपुर लोकसभा सीट से तीन बार सांसद भी रह चुके हैं. उनकी लोकप्रियता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि राष्ट्रीय स्वयं संघ का गढ़ मानी जानी वाली नागपुर सीट से वह कांग्रेस की सीट पर जीत हासिल कर चुके हैं.

कई राज्यों के रहे राज्यपाल

बनवारी लाल पुरोहित का भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस के साथ अन्य दलों में भी सम्मान है. उनकी ताऱीफ भाजपा के साथ-साथ कांग्रेस के नेता भी करते रहे हैं. वह 2017 से 2021 के दौरान दक्षिण के अहम राज्य तमिलनाडु के राज्यपाल रहे हैं. इसके साथ ही वह 2016-2017 के बीच असम में भी यही जिम्मेदारी संभाली. इसके 4 वर्ष बाद अगस्त 2021 में बनवारी लाल पुरोहित ने पंजाब के 29वें गवर्नर के रूप में शपथ ली थी. शनिवार (3 फरवरी) को उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया. वहीं, इसके पहले वह दो बार कांग्रेस के टिकट से इसी सीट से सांसद रह चुके हैं.

यह भी पढ़ें: Cheapest Electric Car: ये है देश की सबसे सस्ती इलेक्ट्रिक कार, प्राइस-फीचर्स जानकर तुरंत करेगा खरीदने का मन