×

टेक

India China: भारतीय बाजार में चुपके से पैठ बना रहे चीनी मोबाइल

India China: जैसे कि हम सभी जानते है कि, चीन की मोबाइल फोन विनिर्माता ट्रां​जियन अपने देश में एक भी मोबाइल फोन नहीं बेचती है. पर वहीं, अफ्रीका में चीन अपनी धाक जमाने के बाद अब चुपके से भारत में पैठ बना रही है. आपको बता दें कि, बिक्री के मामले में ट्रांजियन भारत में… Continue reading India China: भारतीय बाजार में चुपके से पैठ बना रहे चीनी मोबाइल

India China
India China

India China: जैसे कि हम सभी जानते है कि, चीन की मोबाइल फोन विनिर्माता ट्रां​जियन अपने देश में एक भी मोबाइल फोन नहीं बेचती है. पर वहीं, अफ्रीका में चीन अपनी धाक जमाने के बाद अब चुपके से भारत में पैठ बना रही है. आपको बता दें कि, बिक्री के मामले में ट्रांजियन भारत में शीर्ष पांच स्मार्टफोन कंपनियों की लिस्ट में शामिल हो गई है।

रिसर्च के आंकड़ों के मुताबिक, हॉन्ग कॉन्ग की इस कंपनी की साल 2023 में भारतीय स्मार्टफोन बाजार में 8.6 फीसदी हिस्सेदारी रही। वहीं, ट्रांजियन आईटेल, इनफिनिक्स और टेक्नो ब्रांड नाम से अपने मोबाइल की बिक्री करती है और वहीं अगर बात करें 2022 की तो भारतीय बाजार में इन तीनों ब्रांडों के स्मार्टफोन की हिस्सेदारी 6.3 फीसदी थी. यह चीन की एक और कंपनी ओप्पो को भी देश में टक्कर दे रही है. जिसकी भारत में बाजार हिस्सेदारी 2022 और 2023 में लगभग ​10% बिकरी रही है।

वर्ष 2023 में देश के शीर्ष पांच ब्रांडों की कुल बाजार हिस्सेदारी वर्ष 2022 के 80% से घटकर 73% रह गई। पिछले साल स्मार्टफोन बाजार में 2% की गिरावट आई है, लेकिन बाजार हिस्सेदारी हासिल करने के मामले में कंपनी ट्रांजियन फायदे में रही। कम कीमत वाले स्मार्टफोन बाजार में इसने मौजूदा कंपनियों की हिस्सेदारी में सेंध लगाई है। आपको बता दें कंपनी मुख्य रूप से 12,000 रुपए से कम कीमत वाले स्मार्टफोन की बिक्री करती है।

फीचर फोन बाजार में यह अग्रणी कंपनियों में से एक है। इस सेगमेंट में पिछले साल उसकी बाजार हिस्सेदारी 28% रही और इसका प्रमुख ब्रांड आईटेल देशी कंपनी लावा को कड़ी टक्कर दे रहा है। माना जा सकता है कि कुल मिलाकर स्मार्टफोन का बाजार सिकुड़ रहा है, पर प्रीमियम सेगमेंट में ऐपल और ​प्रवेश स्तर पर ट्रांजियन जैसी कंपनियां अपनी बाजार हिस्सेदारी तो बढ़ा रही हैं जबकि शीर्ष पांच ब्रांडों की हिस्सेदारी अब घट रही है।