×

Uncategorized

Delhi Liquor Case: पांचवी बार समन की अनदेखी पर केजरीवाल को गिरफ्तार करेगी ED ?, जानिए क्या कहता है कानून

Delhi News: प्रवर्तन निदेशालय ने राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल को आबकारी नीति मामले में चल रही जांच के सिलसिले में 2 फरवरी को पूछताछ में शामिल होने को कहा है.

Delhi News: दिल्ली में चल रहे आबकारी नीति मामले में ईडी ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को समन जारी किया है. इससे पहले भी उन्हे चार समन जारी किए जा चुके हैं, लेकिन सीएम केजरीवाल ने हर बार इसे टाला है. प्रवर्तन निदेशालय ने राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल को आबकारी नीति मामले में चल रही जांच के सिलसिले में 2 फरवरी को पूछताछ में शामिल होने को कहा है.

भेजा गया पांचवा समन

दिल्ली के पूर्व शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया और राज्यसभा सांसद संजय सिंह गिरफ्तार किए गए हैं, वहीं सीएम केजरीवाल को लगातार समन भेजा जा रहा है. इस मामले में केंद्रीय जांच एजेंसी ईडी का यह पांचवां समन है. पिछले समनों में सीएम केजरीवाल ने आरोपित राजनीतिक साजिश का खंडन किया था.

अवैध बताकर नहीं हुए हाजिर

आपको बता दें कि केजरीवाल को पहला समन 2 नवंबर 2023 को भेजा गया था, जिसे अवैध बताकर वह हाजिर नहीं हुए. दूसरा समन 21 दिसंबर को भेजा गया, जिस पर कोई जवाब नहीं दिया गया. तीसरा समन 3 जनवरी को भेजा गया, लेकिन इस पर भी केजरीवाल ने पूछताछ में शामिल नहीं हुए. चौथा समन फिर 13 जनवरी को भेजा गया, जिस पर सीएम ने राजनीतिक विद्वेष और एजेंडे का आरोप लगाया.

मुझे गिरफ्तारी का नहीं है डर

हाल ही में, सीएम केजरीवाल ने कहा कि केंद्र सरकार ने उन्हें गिरफ्तार करने के लिए हर संभावित साधन का इस्तेमाल किया है और उन्हें आतंकवादी बताया गया है. लेकिन मुझे गिरफ्तारी का कोई डर नहीं है.

इस मुद्दे पर आम आदमी पार्टी ने हाल ही में एक हस्ताक्षर कैम्पेन चलाई, जिसमें लोगों से पूछा गया कि यदि केजरीवाल को जेल होती है तो क्या उन्हें इस्तीफा देना चाहिए या फिर जेल से सरकार चलानी चाहिए.

हो सकती है गिरफ्तारी

आपको बता दें कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल अगर इस बार भी ED के सामने पेश नहीं होते हैं तो ED अगला नोटिस जारी करेगी। जब तक केजरीवाल पेश नहीं होंगे तब तक ईडी नोटिस जारी करती रहेगी.

फिर भी यदि वह हाजिर नहीं हुए तो ED अदालत के समक्ष एक आवेदन दायर कर सकते हैं और मुख्यमंत्री के खिलाफ गैर-जमानती वारंट की मांग कर सकते हैं। साथ ही अधिकारी उनके आवास पर पहुंच कर पूछताछ कर सकते हैं। ठोस सबूत मिलने पर केजरीवाल को गिरफ्तार भी कर सकते हैं।