×

Viral

राहुल गांधी ने कहा आटा 22 की जगह 40 रुपए लीटर, Video वायरल

कांग्रेस देश की राजधानी में महंगाई पर हल्ला बोल रैली का आयोजन किया. इस दौरान कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने केंद्र सरकार पर निशाना साधा. राहुल गांधी ने इस दौरान यूपीए सरकार के दौरान गैस, तेल, दूध आटा का भाव भी गिनाने लगे

राहुल गांधी (File Photo: ANI)

नई दिल्ली: कांग्रेस देश की राजधानी में महंगाई पर हल्ला बोल रैली का आयोजन किया. इस दौरान कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने केंद्र सरकार पर निशाना साधा. राहुल गांधी ने इस दौरान यूपीए सरकार के दौरान गैस, तेल, दूध आटा का भाव भी गिनाने लगे, लेकिन भाषण के दौरान एक चूक की वजह से सोशल मीडिया पर ट्रोल का समाना करना पड़ा. चलिए जानते हैं कि आखिर राहुल गांधी ने रैली में क्या बोल दिया कि सोशल मीडिया पर उनको ट्रोल होना पड़ा.

खबर में खास

  • इस वजह से राहुल गांधी हो रहे ट्रोल
  • बेरोजगारी-महंगाई मोदी सरकार के दो भाई

इस वजह से राहुल गांधी हो रहे ट्रोल

दरअसल. भाषण के दौरान राहुल गांधी ने आटा को किलो की जगह लीटर बता दिया. राहुल गांधी ने यूपीए सरकार और एनडीए सरकार के दौरान महंगाई की तुलना करने लगे थे. इस दौरान राहुल गांधी ने कहा, “महंगाई पर मेरे पास आंकड़े हैं. साल 2014 में एलपीजी सिलेंडर 410 का है, आज 1,050 रुपये का है, पेट्रोल 70 रुपये लीटर आज तकरीबन 100 रुपये लीटर, डीजल 70 रुपये लीटर और आज 90 रुपये लीटर.

#WATCH Congress MP Rahul Gandhi talks about price rise in petrol, diesel and Atta, during the party’s ‘Halla Bol’ rally against inflation pic.twitter.com/qpf1Mg7pTv— ANI (@ANI) September 4, 2022

सरसों का तेल 90 रुपये लीटर आज 200 रुपये लीटर. दूध 35 रुपये लीटर आज 60 रुपये लीटर है. वहीं, राहुल गांधी ने इसी दौरान एक बड़ी चुक हो गई. उन्होंने आटा 22 रुपये लीटर आज 40 रुपये लीटर हो गया बोल दिया. हालांकि, राहुल गांधी अपनी गलती सुधार लिया था. इसकी वजह से सोशल मीडिया पर बीजेपी ने उनकी क्लास ले ली.

बेरोजगारी-महंगाई मोदी सरकार के दो भाई

कांग्रेस ने रविवार को केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि बेरोजगारी और महंगाई मोदी सरकार के दो भाई हैं. पार्टी की महंगाई पर हल्ला बोल रैली शुरू होने से पहले कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट किया, “राजा मित्रों की कमाई में व्यस्त, प्रजा महंगाई से त्रस्त, आज लोगों को जरूरत का सामान खरीदने से पहले भी दस बार सोचना पड़ रहा है. इन तकलीफों के लिए सिर्फ प्रधानमंत्री जिम्मेदार हैं.” उन्होंने कहा, “हम महंगाई के खिलाफ आवाजें जोड़ते जाएंगे, राजा को सुनना ही पड़ेगा.”

रैली में राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि कांग्रेस ने संसद में महंगाई पर चर्चा करने का बहुत प्रयास किया, लेकिन सरकार इससे बचती रही. उन्होंने कहा कि राहुल गांधी के नेतृत्व में संघर्ष के बाद सरकार चर्चा के लिए तैयार हुई, लेकिन पांच घंटे की चर्चा हुई और इसमें भी कांग्रेस को सिर्फ 28 मिनट दिए गए.