×

विदेश

रूस-यूक्रेन युद्ध के कारण परमाणु जंग के मुहाने पर खड़ी दुनिया, अमेरिका खरीद रहा रेडिएशन कम करने वाले कैप्सूल

यूक्रेन और रूस के बीच जंग (Russia Ukraine War) को कई महीने हो गए हैं लेकिन हाल ही में हुए घटनाक्रम को देखा जाये तो पुतिन काफी आक्रामक दिख रहे हैं.

U.S President Joe Biden

नई दिल्लीः यूक्रेन और रूस के बीच जंग (Russia Ukraine War) को कई महीने हो गए हैं लेकिन हाल ही में हुए घटनाक्रम को देखा जाये तो पुतिन काफी आक्रामक दिख रहे हैं. रूस के हमले यूक्रेन (Ukraine) पर काफी घातक होते जा रहे हैं. क्रीमिया में ब्रिज पर हमले के बाद से पुतिन का पारा सातवें आसमान पर है. ऐसे में दुनिया पर एक बार फिर विश्व युद्ध और परमाणु हमले (Nuclear War) का खतरा मंडरा रहा है. हालत बदलता देख अमेरिका और यूरोपीय देशों ने परमाणु हमले से बचने के लिए तयारी शुरू कर दी है.

खबर में खास

  • रूस से किसी तरह का संघर्ष नहीं
  • आयोडीन कैप्सूल रिकॉर्डतोड़ बिके
रूस से किसी तरह का संघर्ष नहीं

बता दें कि यूरोप और अमेरिका में पोटेशियम आयोडाइड (Potassium iodide) के कैप्सूल की डिमांड कफी ज्यादा बढ़ गई है. अमेरिकी स्वास्थ्य विभाग ने भी करीब 2400 करोड़ रुपए खर्च करके ऐसी ही एक दवा की खेप खरीदी है. माना जाता है कि इस कैप्सूल से परमाणु हमले (Nuclear War) का रेडिएशन कम किया जा सकता है. हालांकि अमेरिका ने साफ किया है कि वो रूस के के साथ किसी भी तरह का संघर्ष (Russia Ukraine War) नहीं चाहता है. 

आयोडीन कैप्सूल रिकॉर्डतोड़ बिके

अमेरिका के इस दवा को खरीदने के बाद से कई सवाल खड़े हो रहे हैओं कि की रूस अब जल्द ही यूक्रेन पर परमाणु हमला (Nuclear War) करने वाला है जिसका इनपुट अमेरिका को मिल गया है. सवाल ये भी है कि क्या सच में परमाणु युद्ध (Nuclear War) होने वाला है? क्योंकि यूक्रेन की जंग के बाद दुनिया भर में पोटेशियम आय़ोडाइड यानी आयोडीन के कैप्सूल रिकॉर्डतोड़ बिके हैं. बता दें कि जब एटम बम फूटता है तो I-131 नाम का जानलेवा रेडियोएक्टिव हवा में तैरने लगता है. दावा किया जाता है कि आयोडीन के कैप्सूल इसी आई-131 से बचाते हैं.