×

विदेश

क्यों चर्चा में है पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की Gucci वाली टोपी

पाकिस्तान में पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के Gucci टोपी की चर्चा इस समय जोरों पर है. टोपी की दो बातें पाकिस्तानियों को हजम नहीं हो रही हैं. एक तो इसकी कीमत और दूसरा टोपी में बनी लाइनों का कलर. लोगों का कहना है कि इस टोपी की कीमत पाकिस्तानी एक लाख रुपये से अधिक है.… Continue reading क्यों चर्चा में है पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की Gucci वाली टोपी

पाकिस्तान में पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के Gucci टोपी की चर्चा इस समय जोरों पर है. टोपी की दो बातें पाकिस्तानियों को हजम नहीं हो रही हैं. एक तो इसकी कीमत और दूसरा टोपी में बनी लाइनों का कलर. लोगों का कहना है कि इस टोपी की कीमत पाकिस्तानी एक लाख रुपये से अधिक है. साथ ही टोपी में बनी लाइनें इमरान खान की पार्टी पाकिस्तान-तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) से काफी मिलती-जुलती हैं.

दरअसल, पाकिस्तान में जल्द ही चुनाव होने वाले हैं. ऐसे सभी पार्टियों के नेता लगातार चुनावी रैलियों में जुटे हैं. नवाज शरीफ ने हाल ही में इस टोपी को पहनकर पंजाब प्रांत के ननकाना साहिब में रैली की थी, जिसके बाद Gucci टोपी की चर्चा ने जोर पकड़ लिया और नवाज शरीफ की लोगों ने जमकर खिंचाई करनी शुरू कर दी.

पाकिस्तान में महंगाई चरम पर- रिपोर्ट


एक रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तान इस समय आर्थिक संकट से जूझ रहा है. देश में इन दिनों बिजली, ईंधन और खाने-पीने की वस्तुएं काफी महंगी हो गई हैं. देश में लगातार गरीब लोगों की संख्या बढ़ रही है. विश्व बैंक की एक रिपोर्ट के मुताबिक कोरोना संकट के बाद पाकिस्तान आर्थिक असंतुलन का शिकार हो गया है. देश में बुनियादी समस्याएं चरम पर हैं, ऐसे में देश के पूर्व प्रधानमंत्री की टोपी के मूल्य को पाकिस्तानी पचा नहीं पा रहे हैं.
बता दें कि नवाज शरीफ की पहले भी ऐसे ही एक मामले में किरकिरी हो चुकी है. साल 2023 में लंदन के एक महंगे हैरोड्स डिपार्टमेंट स्टोर में खरीदारी के दौरान नवाज का सामना एक पाकिस्तानी महिला से हो गया था, इस दौरान भी नवाज की खूब किरकिरी हुई थी.

पाकिस्तान के प्रसिद्ध अखबार द डॉन के मुताबिक 2024 के आम चुनाव से पहले पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (PML-N) सुप्रीमो नवाज शरीफ ने अपना चुनावी घोषणा पत्र जारी किया है. इसमें उन्होंने कई वादे किए हैं, जिसमें बिजली दर में 20 से 30 प्रतिशत की कटौती करने की बात कही है.

ये भी पढ़ें- भारत में चीन के नए एंबेसडर की नियुक्ति की संभावना